Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

आज 800 करोड़ हो गई दुनिया की आबादी, 2023 में भारत होगा सर्वाधिक जनसंख्या वाला देश!

15 Nov, 2022
देशहित
Share on :

नई दिल्ली: जैसा की आप सभी जानते है भारत देश जनसंख्या की दृष्टि से विश्व में दूसरे स्थान पर है। भारत देश में करोड़ो की संख्या में लोग निवास करते है और आज यानि 15 नवंबर 2022 को वैश्विक आबादी 8 अरब तक पहुंच गई है। साथ ही, अनुमान है कि भारत 2023 में जनसंख्या के मामले में दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले देश चीन को पार कर पहले नंबर पर आ जाएगा। संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के मुताबिक, 2030 तक पृथ्वी पर 850 करोड़, 2050 तक 970 करोड़ और 2100 तक 1040 करोड़ लोग हो सकते हैं।

2022 में भारत की जनसंख्या कितनी है?

यह तो आपको मालूम होगा कि एक निश्चित समय में किसी स्थान के निवासियों की संख्या में वृद्धि को जनसंख्या वृद्धि कहा जाता है। यहाँ हम आपको भारत की जनसंख्या 2022 के बारे में बताने जा रहें है। एक अनुमान के अनुसार वर्तमान समय में भारत देश की जनसंख्या 1,404,234,872 करोड़ है।

2023 में भारत होगा सर्वाधिक जनसंख्या वाला देश 

रिपोर्ट के मुताबिक, कई देशों की प्रजनन क्षमता में गिरावट आई है और साल 1950 के बाद से जनसंख्या बहुत ज्यादा धीमी दर से बढ़ रही है।हालांकि, सबसे बड़ा अनुमान यही है कि साल 2023 में भारत चीन को पीछे छोड़कर सबसे ज्यादा आबादी वाला देश बन जाएगा। 

2050 तक 9.7 बिलियन तक बढ़ सकती है दुनिया की आबादी

आपको बता दें कि वैश्विक जनसंख्या 1950 के बाद से अपनी सबसे धीमी दर से बढ़ रही है, जो 2020 में 1 प्रतिशत से कम हो गई है। संयुक्त राष्ट्र के नवीनतम अनुमान बताते हैं कि दुनिया की जनसंख्या 2030 में लगभग 8.5 बिलियन और 2050 में 9.7 बिलियन तक बढ़ सकती है।

2100 में घटेगी भारत की आबादी 

इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ मेट्रिक्स इवेल्यूएशन की रिपोर्ट के अनुसार 78 साल बाद भारत में टीएफआर 1.29 पर होगी। बताया जा रहा है कि साल 2100 में भारत की आबादी निर्धारित अनुमान से 43.3 करोड़ तक कम हो सकती है। वहीं, माइग्रेशन की बात करें तो पिछले एक दशक यानी 2010 से 2021 के दौरान, 1.65 करोड़ पाकिस्तानी ने अपना देश छोड़कर दूसरे देशों में बसे हैं। इसके बाद भारत से 35 लाख, बांग्लादेश से 29 लाख, नेपाल से 16 लाख और श्रीलंका से 10 लाख लोग दूसरे देश चले गए हैं।

विश्व की आधी आबादी होगी इन आठ देशों में 

संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि विश्व की आबादी 2080 के आसपास 1040 करोड़ तक पहुंच जाएगी और 2050 तक विश्व की 550 प्रतिशत आबादी दुनिया के 8 देशों- भारत, पाकिस्तान, कॉन्गो, मिस्र, इथियोपिया, नाइजीरिया, फिलीपींस और तंजानिया में रह रही होगी।

अब हम आपको साल 1951 से लेकर साल 2022 तक की भारत की जनसंख्या कितनी है ? इसके विषय में विस्तारपूर्वक जानकारी देंगे।

वर्ष 1951 में भारत की जनसंख्या

1951 की गणना के अनुसार, 1951 में भारत की जनसंख्या करीब 36 करोड़ थी।

वर्ष 1961 में भारत की जनसंख्या

भारत की वर्ष 1961 की जनगणना के अनुसार, भारत की जनसंख्या 43,89,36,918 पाई गई थी।

वर्ष 1971 में भारत की जनसंख्या

वहीं 1971 की जनगणना के अनुसार भारत देश की कुल जनसंख्या 547,949,809 थी। 

वर्ष 1981 में भारत की जनसंख्या

1981 की गणना के अणुसार भारत की जनसंख्या 684 लाख थी।

वर्ष 1991 में भारत की जनसंख्या

साल 1991 की जनगणना के अनुसार, भारत की जनसंख्या 846,427,039 करोड़ गिनी गई। 

वर्ष 2001 में भारत की जनसंख्या

साल 2001 की जनगणना के अनुसार, भारत की जनसंख्या 1,028,737,436 करोड़ थी।

वर्ष 2011 में भारत की जनसंख्या

2011 की गणना के अनसार, भारत की कुल जनसंख्या 1,21,08,54,977 थी।  

News
More stories
टिकट न मिलने पर आप नेता हसीब उल हसन, टावर पर चढ़कर देने लगे कूदने की धमकी, दुर्गेश पाठक, आतिशी, संजय सिंह पर लगाए रिश्वत लेने के आरोप