Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

जीवन का सार बताते हैं शिक्षक, जानिए गुरु पूर्णिमा जे जुड़ी यह ज़रूरी बातें

13 Jul, 2022
Head office
Share on :
guru poornima

गुरु का स्थान परमात्मा से भी ऊँचा माना जाता है. जीवन में गुरु के योगदान और महत्त्व का कोई मोल नहीं हैं. आइये जानते हैं भारत में क्यों मनाते हैं गुरु पूर्णिमा.

नई दिल्ली: आज 13 जुलाई को देश में गुरु पूर्णिमा का पर्व मनाया जा रहा है. भारत में गुरु पूर्णिमा का बहुत महत्व है. सनातन धर्म में आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा मनाई जाती है. हिन्दू धर्म के अनुसार, आषाढ़ पूर्णिमा के दिन ही वेदों के रचयिता महर्षि वेदव्यास का जन्म हुआ था. माना जाता है कि सबसे पहले वेदों की शिक्षा देने वाले महर्षि वेदव्यास ही थे और उनको प्रथम गुरु का दर्जा भी दिया गया है. गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा भी कहते हैं.

गुरु पूर्णिमा का महत्त्व

शास्त्रों के अनुसार, पौराणिक काल के महान व्यक्तित्व, ब्र्हम्सुत्र, महाभारत, और अट्ठारह पुराण जैसे अद्भुत साहित्यों की रचना करने वाले महर्षि वेदव्यास का जन्म आषाढ़ पूर्णिमा को ही हुआ था. यह पर्व वेदव्यास जी की जयंती के रूप में भी मनाया जाता जाता है. अज का दिन गुरुयों के पूजन को समर्पित है. गुरु से मंत्र प्राप्त और गुरु की सेवा करने के लिए यह दिन श्रेष्ठ माना जाता है.

guru poornima

पूजन विधि का तरीका

आज यानी गुरु पूर्णिमा के दिन पूजन विधि करना बहुत अहम माना जाता है. किसी भी साफ स्वच्छ जगह पर या पूजा के स्थान पर एक सफ़ेद कपड़ा बिछाकर व्यास पीठ का निर्माण करना चाहिये और वेदव्यास जी की मूर्ती या तस्वीर को स्थापित करना चाहिये. और उसके बाद रोली, फूल, चन्दन, आदि प्रतिमा को चढ़ाएं. गुरु पूर्णिमा के दिन शुक्रदेव और शंकराचार्य जैसे गुरुयों का भी आह्वान करना चाहिये.

PM मोदी ने शुभकामनाएं

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरु पूर्णिमा’ के अवसर पर लोगों को शुभकामनाएं दीं और इसे मानव जाति को प्रेरित करने तथा जीवन सार बताने वाले सभी शिक्षकों का आभार व्यक्त करने का दिन बताया है. पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा कि, ‘गुरु पुर्णिमा की बधाई. यह उन सभी अनुकरणीय गुरुओं के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का दिन है, जिन्होंने हमें प्रेरित किया, हमें मार्ग दिखाया और हमें जीवन के बारे में इतना कुछ सिखाया. हमारा समाज सीखने और ज्ञान अर्जित करने को अत्यधिक महत्व देता है. कामना करता हूं कि हमारे गुरुओं का आशीर्वाद भारत को नई ऊंचाइयों पर ले जाए.’ प्रधानमंत्री मोदी ने ‘आषाढ़ पूर्णिमा’ की भी शुभकामनाएं दी.

pm modi tweet

CM योगी ने की विशेष साधना

आपको बता दें कि सीएम योगो आदित्यनाथ ने आज गुरु पूर्णिमा के दिन गोरखनाथ मंदिर में विशेष पूजा की. गुरु के चरणों में वंदना के बाद गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं दीं और कहा कि गुरु के प्रति सच्‍ची आस्‍था होनी चाहिए। इस मौके पर सीएम योगी ने बतौर गोरक्षपीठाधीश्‍वर आज शिवावतारी गुरु गोरक्षनाथ का विशेष पूजन किया और उन्हें रोट का प्रसाद भी चढ़ाया। मुख्यमंत्री योगी ने गुरु पूर्णिमा पर देश को हार्दिक शुभकामनाएं दी हैं और जारी शुभकामना सन्देश में उन्होंने कहा है कि गुरु पूर्णिमा गुरु-पूजन का पर्व है।

cm yogi adityanath

गुरु पूर्णिमा पर दिखेगा सुपरमून

supermoon

आज 13 जुलाई को गुरु पूर्णिमा के मौके पर दुनिया अनोखे चांद का दीदार कर पायेगी। हर रोज की तुलना में आज के दिन आपको चांद बहुत बड़ा, चमकीला और गुलाबी नज़र आने वाला है. बाते दें कि इसको साल 2022 की सबसे बड़ी खगोलीय घटनाओं में से एक आज 13 जुलाई को देखा जा सकता है. सुपरमून का मतलब होता है कि इस दौरान चांद अपनी आकार से ज्यादा बड़ा और चमकदार दिखाई देता है क्योंकि इस दौरान चांद और धरती की दूरी बहुत कम हो जाती है और चांद धरती के पास आ जाता है। ऐसे में गुरु पूर्णिमा के इस अवसर पर दुनिया को अनोखे चांद का दीदार करने का मौका मिलेगा।

News
More stories
नये संसद भवन में बने अशोक स्तंभ को लेकर छिड़ा विवाद, विपक्ष बोला- संवैधानिक परंपराओं पर चोट