Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

मराठी फिल्म हर-हर महादेव का विरोध, छत्रपति शिवाजी के वंशज ने भी जताई मुवी पर आपत्ति

08 Nov, 2022
देशहित
Share on :

आपको बता दें, फिल्म हर -हर महादेव की कहानी अभिजीत देशपांडे ने लिखी है और निर्माण सुनील राजाराम फडतरे ने किया है।

भारत के महानतम राजाओं में से एक छत्रपति शिवाजी पर बनी मराठी फिल्म ‘हर हर महादेव’ को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। इस मामले में बीती रात राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने ठाणे और पुणे में हंगामा किया। एनसीपी नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री जितेंद्र आव्हाड ने मुंबई के पास ठाणे के मल्टीप्लेक्स में ‘हर हर महादेव’ की स्क्रीनिंग को जबरदस्ती रोक दिया। आरोप है कि फिल्म में छत्रपति शिवाजी को लेकर गलत तथ्य दिखाए गए हैं।

ये भी पढ़े: क्यों खास है साल का आखिरी पूर्ण चंद्रगृहण, किन राशियों के लिए फलदायक और नुकसानदेह होगा चंद्रगृहण ? आइए जानते हैं

फिल्म में महाराणा प्रताप की छवि गलत दिखाने से किया जा रहा है प्रदर्शन

महाराष्ट्र: पुणे, ठाणे में मराठी फिल्म 'हर हर महादेव' का प्रदर्शन रोका गया  - screening of marathi film har har mahadev stopped in pune and thane
File Photo

जानकारी के मुताबिक, फिल्म में छत्रपति शिवाजी महाराज के इतिहास के साथ छेड़छाड़ की गई है। उनका अपमान किया गया है। इसलिए शो बंद कराया गया है। गौरतलब है कि ‘हर हर महादेव’ फिल्म 25 अक्टूबर को सिनेमाघरों में रिलीज हुई थी। NCP का आरोप है कि फिल्म में छत्रपति शिवाजी महाराज और मराठा साम्राज्य के इतिहास के साथ छेड़छाड़ की गई है और उन्हें तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया है, जो कि अपमानजनक है। जबकि ‘वेदत मराठे वीर दौडले सात’ में ‘मावले’ (छत्रपति शिवाजी महाराज के सैनिक) का भयावह चित्रण किया गया है।

शिवाजी महाराज के वंशज संभाजी छत्रपति ने भी मुवी पर जताई नाराजगी

Hindi News - NewsBoss
File Photo

एक दिन पहले, पूर्व राज्यसभा सदस्य और कोल्हापुर शाही परिवार के वंशज संभाजी छत्रपति ने चेतावनी दी थी कि यदि महान योद्धा छत्रपति शिवाजी महाराज पर आधारित किसी भी आगामी फिल्म में तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर पेश किया जाता है, तो वह ऐसी फिल्मों का विरोध करेंगे और उनकी रिलीज को रोकने के लिए सभी प्रयास करेंगे। शिवाजी महाराज के वंशज संभाजी छत्रपति ने (हाल ही में रिलीज हुई) मराठी फिल्म ‘हर हर महादेव’ और ‘वेदत मराठे वीर दौडले सात’ (एक आगामी फिल्म) पर भी नाराजगी व्यक्त की।

शुरु से चर्चाओं में रही है मुवी

बता दें, यह फिल्म शूटिंग से समय से चर्चा में रही है और इसके रिलीज होने के बेसब्री से इंतजार हो रहा था। रिलीज के बाद भी शुरू में फिल्म की तारीफ हुई थी। यह फिल्म एपिक हिस्टोरिकल एक्शन ड्रामा है।

हंगामे के बाद लोगों ने जाहिर किया अपना गुस्सा

हंगामे के बाद फिल्म देखने आए दर्शकों ने भी गुस्सा जाहिर किया। लोगों का कहना है कि जब फिल्म लग रही थी, तब विरोध क्यों नहीं किया। अब हम टिकट के पैसे खर्च करके आए हैं तो मारपीट की जा रही है। यह फिल्म 25 अक्टूबर को रिलीज हुई थी।

अभिजीत देश पांडे ने लिखी है फिल्म की कहानी

Abhijeet Deshpande: 'Har Har Mahadev' is a 10 years of love and labor |  Marathi Movie News - Times of India
File Photo

आपको बता दें, फिल्म हर -हर महादेव की कहानी और डायरेक्ट अभिजीत देशपांडे ने किया है। मुवी का निर्माण सुनील राजाराम फडतरे ने किया है। फिल्म में मुख्य भूमिका निभाने वाले कलाकारों में शामिल हैं – सुबोध भावे, शरद केलकर, अमृता खानविलर। सुबोध भावे ने छत्रपति शिवाजी महाराज का रोल किया है।

कौन थे शिवाजी महाराज ?

जानिए महान योद्धा शिवाजी के बारे में - all you need to know about  chhatrapati shivaji - AajTak
Shivaji Maharaj

शिवाजी महाराज का जन्म 19 फरवरी 1630 को हुआ था। छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम से भी जाना जाता है। वह भारत के महानतम राजाओं में से एक थे। उनका बचपन से यह सपना था कि वह स्वराज की स्थापना करेंगे। छोटी आयु से ही उन्होंने युद्ध-कौशल में बहुत महानता हासिल कर ली। जन्म से ही वे एक कुशाग्र बुद्धि इंसान थे। जो शत्रु को चकमा देकर के गुप्त रहस्य से वार करके हरा देते थे। उनकी इस रणनीति को गुरिल्ला युद्ध नीति के नाम से भी जाना जाता है। शिवाजी महाराज की मृत्यु 3 अप्रैल 1680 को हुई थी।

Edit by Deshhit News

News
More stories
GTB Nagar की आउट्राम लाइन्स झुग्गीयों का क्या है मौजूदा हाल, जनता की बीच पहुंचे कांग्रेस प्रत्याशी