Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

जोशीमठ के लोगों को तीन दिन के भीतर घर खाली करने के लिए जारी किया गया नोटिस, डेंजर जोन से घर खाली नहीं करने वालों को हटाया जाएगा जबरन।

09 Jan, 2023
komal verma
Share on :

नई दिल्ली: बीते कई दिनों से जोशीमठ भूधंसाव से बुरी तरह से प्रभावित है। भूधंसाव से जोशीमठ में तकरीबन 600 परिवार और 3000 लोग संकट की चपेट में है और अब जोशीमठ को डेंजर जोन घोषित करने के चलते खाली कराने का आदेश दे दिया गया है। एसडीआरएफ ने खतरे वाले घरों को तीन दिन के अंदर घर खाली करने के आदेश दे दिया है। बता दें, यहां करीब 500 घरों को खाली किया जाना है। हालांकि, लोग घरों को छोड़ने को राजी नहीं है, जिससे जिला प्रशासन की चुनौती बढ़ी है। भूमि धंसने के कारण कम से कम 570 घरों में दरारें आ गई हैं।

ये भी पढ़े: पीएम मोदी ने 17 वें प्रवासी भारतीय दिवस को किया संबोधित, कहा- मैं सभी भारतीय प्रवासियों को भारत का ब्रांड एंबेसडर मानता हूं, 2003 में पहली बार मनाया गया था प्रवासी भारतीय दिवस।

डेंजर जोन से घर खाली नहीं करने वालों को हटाया जाएगा जबरन

Joshimath landslide these cities of Uttarakhand are also in danger  Geologists expressed concern - जोशीमठ के बाद उत्तराखंड के इन शहरों पर भी  मंडराया खतरा, एक्सपर्ट्स ने इस बात की जताई ...

जिला प्रशासन के अनुसार तीन दिन में डेंजर जोन से घर खाली नहीं करने वालों को जबरन हटाया जाएगा। उनके पुनर्वास के लिए भी व्यवस्था की गई है। जिला प्रशासन अब तक 129 परिवारों को डेंजर जोन से हटाकर पुनर्वासित कर चुका है और 42 परिवारों को राहत कैंप में भेजा जा चुका है। अब तक कुल 52 परिवारों को राहत कैंप में शिफ्ट किया गया है। जिला प्रशासन की ओर से आपदा प्रभावित 46 परिवारों को पांच-पांच हजार रुपये प्रति परिवार की दर से घरेलू सामान व राशन के लिए दो लाख 30 हजार रुपये के चेक वितरित किए गए।

आज किस कारण जोशीमठ में है यह दुर्दशा?

Joshimath: संकटग्रस्त परिवारों की सुरक्षा को युद्ध स्‍तर पर काम, इन  स्‍थानों पर किया जा सकता है स्थानांतरित - Joshimath Sinking affected  families can be shifted to these three ...

मिली जानकारी के मुताबित, जोशीमठ में भू-धंसाव का कारण पानी के निकासी की व्यवस्था ना होना, जोशीमठ में भू-धंसाव और दरारों का प्रमुख कारण है। इसके अलावा टेक्निकल टीम ने अलकनंदा नदी में हो रहा कटाव को भी इसका एक प्रमुख कारण माना है। उत्तराखंड में जोशीमठ एक छोटा सा शहर है। इसका एक और नाम ज्योतिर्मठ भी है। धार्मिक और सांस्कृतिक अहमियत वाले शहर जोशीमठ को बद्रीनाथ का द्वार माना जाता है और इसका इतिहास करीब 1500 साल पुराना है। 8वीं सदी में आदि शंकराचार्य को यहीं ज्ञान प्राप्त हुआ और चार मठों में से पहले मठ की स्थापना उन्होंने जोशीमठ में ही की थी।

#Joshimath #Joshimath in Danger Zone #Joshimath mai Bhudhansav #Joshimath mai Bhudhansav se 6000 hazar Log prabhavit #SDRF #Deshhit News

Edit By Deshhit News

News
More stories
पीएम मोदी ने 17 वें प्रवासी भारतीय दिवस को किया संबोधित, कहा- मैं सभी भारतीय प्रवासियों को भारत का ब्रांड एंबेसडर मानता हूं, 2003 में पहली बार मनाया गया था प्रवासी भारतीय दिवस।