Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

युवायों के लिए मिसाल हैं ‘मिसाइलमैन’ डॉ कलाम, यहाँ देखें सक्सेस का गुरुमंत्र और ज़िन्दगी बदल देने वाले इंस्पपिरेशनल थॉट्स

27 Jul, 2022
Head office
Share on :
Dr. APJ Abdul Kalam

आज यानी 27 जुलाई को अपनी योग्यता और अपनी महान बातों के लिए मशहूर ‘मिसाइलमैन’ एपीजे अब्दुल कलाम की पुण्यतिथि है. उनके विचार आज भी युवाओं के लिए प्रेरणा क स्रोत हैं. आज पूरा देश महान विचारक एपीजे अब्दुल कलाम की सातवी पुण्यतिथि मना रहा है. यहाँ जानें उनके जीवन से जुड़ी कुछ खास बातें और जीवन को बदल देने वाले विचार.

Dr APJ Abdul Kalam Death Anniversary: आज 27 जुलाई को भारत के 11वें राष्ट्रपति और मिसाइलमैन के नाम से मशहूर डॉ एपीजे अब्दुल कलाम की सातवीं पुण्यतिथि है. आज भले ही डॉ एपीजे अब्दुल कलाम हमारे बीच नहीं हैं लेकिन उनका आदर्शों भरा जीवन और विचार पीढ़ी दर पीढ़ी आगे बढेंगे और लोगों को प्रेरित करते रहेगें. 2015 में शिलॉन्ग में बच्चों को भाषण देने के दौरान उनका निधन हुआ था. आज उनकी पुण्यतिथि पर मिसाइलमैन को याद करते हुए उनके जीवन की कुछ प्रेरणादायक बातों पर गौर करते हैं.

बच्चों और युवायो के चहीते कलाम

डॉ कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम में हुआ. कलाम बच्‍चों और युवाओं के के बेहद चहीते थे. कलाम उन्‍हें बड़ा सोचने और करने की प्रेरणा देते थे. उन्हें भी बच्चों के बीच समय बिताना बहुत पसंद था. वह अक्‍सर विश्‍वविद्यालयों के सेमिनार और कार्यशालाओं में शामिल हुआ करते थे. 27 जुलाई 2015 को शिलोंग आईआईएम में आयोजित एक कार्यक्रम में कलाम गए थे. उनकी अचानक कार्डिएक अरेस्ट से मौत हो गई थी.

बता दें किडॉ कलाम भारत के तीसरे राष्ट्रपति थे जिन्हें पद मिलने से पहले ही भारत रत्न से सम्मानित किया जा चुका था. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को 1997 में भारत रत्न मिला. वह 2002 में देश के 11वें राष्ट्रपति चुने गए और उनका कार्यकाल 25 जुलाई 2002 से 25 जुलाई 2007 तक रहा था.

परमाणु परीक्षण में अहम भूमिका

डॉ अब्दुल कलाम ने चार दशकों तक रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के विकास में अहम भूमिका निभाई और बहुत योगदान दिया. वह कई अंतरिक्ष और सैन्य मिसाइल कार्यक्रमों में अहम पद पर रहे. बता दें, कलाम को बैलेस्टिक मिसाइल और लॉन्च व्हीकल टेक्नोलॉजी के विकास कार्यों के लिए ‘मिसाइलमैन’ कहा जाता है. और तो और डॉ कलाम ने 1998 में भारत के पोखरण में दूसरे परमाणु परीक्षण में एक निर्णायक और तकनीकी भूमिका निभाई और देश की विकास के लिए अहम योगदान दिया.

डॉ कलाम को शत शत नमन

महाराष्‍ट्र सरकार में सूचना एवं जनसंपर्क महानिदेशालय में डेप्‍युटी डायरेक्‍टर दयानंद कांबले ने कलाम को याद करते हुए लिखा कि भारत के मिसाइल मैन डॉ अब्‍दुल कलाम की पुण्‍यतिथि पर शत शत नमन. वह एक महान शिक्षक, वैज्ञानिक और पीपुल्‍स प्रेसीडेंट थे. उन्‍होंने पूरा जीवन अपने काम और राष्‍ट्र को समर्पित किया और देश को आगे बढाने में योगदान दिया.

भाजपा के वरिष्ट नेता और भारत सरकार के सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने भी डॉ अब्दुल कलाम को सादर नमन कर उनके योगदानो को याद किया है.

इसी के साथ साथ दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने भी उन्हें याद करते हुए ट्वीट कर लिखा कि, ‘ उनके जीवन और शिक्षा के छेत्र में उनके योगदान ने देश ही नहीं पूरी दुनिया में लाखों लोगों को प्रेरित किया है जिनमे मै भी शामिल हूँ.’

डॉ कलाम के प्रेरणादायक विचार

“शिखर पर पहुंचने के लिए सामर्थ्य चाहिए. फिर वो चाहे माउंट एवेरेस्ट का शिखर हो या आपके करियर का”

“आप अपना भविष्य नहीं बदल सकते, लेकिन अपनी आदतें बदल सकते हैं. निश्चित रूप से आपकी आदतें आपका भविष्य बदल देंगी”

“मुझे पूरा यकीन है कि जब तक किसी ने नाकामयाबी की कड़वी गोली न चखी हो, वो कायमाबी के लिए पर्याप्त महत्वाकांक्षा नहीं रख सकता”

“विज्ञान मानवता के लिए खूबसूरत तोहफा है, हमें इसे बिगाड़ना नहीं चाहिए”

“इंतजार करने वाले को उतना ही मिलता है, जितना कोशिश करने वाले छोड़ देते हैं”

“दुनिया में किसी को हराना बहुत आसान है और मगर किसी को जीतना उतना ही मुश्किल”

Edited by – Deshhit News

News
More stories
ED के अधिकारों पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, सोनिया गाँधी के तीसरे दौर की पूछताछ पर कांग्रेस का हंगामा