सूरत कोर्ट से राहुल गाँधी की याचिका खारिज होने पर फूटा महबूबा मुफ्ती का गुस्सा, कहा- बीजेपी देश में लोकतंत्र का खात्मा चाहती है !

21 Apr, 2023
Deepa Rawat
Share on :

नई दिल्ली: गुरुवार को गुजरात की सूरत कोर्ट ने राहुल गाँधी की जमानत याचिका खारिज कर दी। राहुल गांधी की जमानत याचिका खारिज होने पर अब PDF अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती का गुस्सा फूटा है। बता दें, अध्यक्ष कल सूरत के सेशन कोर्ट ने मानहानि मामले में राहुल गाँधी की याचिका यह कहते हुए खारिज कर दी कि सांसद और दूसरी सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी के अध्यक्ष होने के नाते राहुल गांधी को अपने शब्दों में ज्यादा सावधान रहना चाहिए था, जिसका लोगों के मन पर गहरा प्रभाव पड़ेगा। उनको सोच समझकर बोलना चाहिए था। बता दें, राहुल गाँधी ने आपराधिक मानहानि के मामले में दो साल के कारावास की सजा सुनाए जाने के निचली अदालत के फैसले के खिलाफ ये याचिका दायर की थी। कांग्रेस नेता ने निचली अदालत के आदेश के खिलाफ तीन अप्रैल को सेशन कोर्ट का रुख किया था।

ये भी पढ़े: राहुल गाँधी को मानहानि मामले में सूरत सेशन कोर्ट से नहीं मिली राहत, जज आर. पी. मोगेरा ने अपने ऑर्डर में कहा- उन्हें सोच समझकर बोलना चाहिए था, यह गांधी परिवार की हेकड़ी पर जोरदार तमाचा है – संबित पात्रा !

‘बीजेपी राष्ट्र’ बनाना चाहते है भाजपा – महबूबा मुफ्ती

सूरत कोर्ट से ‘मोदी सरनेम’ वाले मानहानि मामले में कांग्रेस नेता राहुल गांधी की अपील खारिज कर दिए जाने पर PDP अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती बुरी तरह भड़क गईं। महबूबा ने गुरुवार को अदालते के इस फैसले के बाद बीजेपी पर निशाना साधते हुए अनंतनाग में कहा कि यह ‘लोकतंत्र की जननी होने पर गर्व करने वाले मुल्क के लोकतांत्रिक इतिहास में आज काला दिन है। राहुल गांधी के साथ जिस प्रकार का बर्ताव किया जा रहा है, वह दिखाता है कि बीजेपी देश में लोकतंत्र का खात्मा चाहती है। वे ‘वन पार्टी सिस्टम’ लाना चाहते हैं और संविधान को दरकिनार करके ‘बीजेपी राष्ट्र’ बनाना चाहते हैं।’

बीजेपी उनकी लोकप्रियता से डर गई है – महबूबा मुफ्ती

महबूबा ने आगे कहा, ‘न्यायपालिका लोगों की अंतिम उम्मीद है लेकिन इसकी हालिया भूमिका से सवाल पैदा होते हैं। अनुच्छेद 370 से जुड़ी याचिकाओं को देखिए, वे कई साल से बिना सुनवाई के लंबित हैं। बिल्कीस बानो का मामला लंबित है लेकिन राहुल गांधी के मामले में तेजी लाई जा रही है। ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के बाद राहुल गांधी एक विश्वसनीय चेहरे के रूप में उभरे हैं और ऐसा लगता है कि बीजेपी उनकी लोकप्रियता से ‘डर’ गई है।’ महबूबा ने कहा कि मुझे भरोसा है कि लोग ‘वेस्ट इंडिया कंपनी’ के कुशासन के खिलाफ उसी प्रकार उठ खड़े होंगे जैसे वे 1947 से पहले ईस्ट इंडिया कंपनी के खिलाफ खड़े हुए थे।’

2019 में दिया था राहुल गाँधी ने “मोदी सरनेम” पर विवादित बयान

why rahul gandhi punished for two years imprisonment by surat court what he  congress mp said about modi - Rahul Gandhi : राहुल को 2 साल की सजा क्यों  हुई, 'मोदी' सरनेम

बता दें, राहुल गाँधी ने 2019 में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि सभी चोरों का सरनेम मोदी क्यों होता ? राहुल गाँधी के इस बयान के खिलाफ बीजेपी नेता पूर्णेश मोदी ने शिकायत दर्ज कराई थी। पूर्णेश मोदी की याचिका की सुनवाई करते हुए सूरत कोर्ट ने राहुल गाँधी को दो साल की सजा सुनाई थी और उनको अयोग्य ठहराते हुए उनकी लोकसभा सदस्यता रद्द कर दी थी।

BJPCongressDeshhit News ‘KIya hai modi sername MamlaMehbooba Mufti kon haiModi SernameModi Sername par rahul gandhi ne kiya kaha thaPDF Speaker Mehbooba MuftiRahul GandhiRahul gandhi ki loksabha sadasiyata kiu hui raddSurat Court

News
More stories
परिणीति चोपड़ा और राघव चड्ढा का चोरी चुपके हुआ रोका, इस दिन दुल्हन बनेंगी एक्ट्रेस !
%d bloggers like this: