Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

जाने कश्मीरी पंडितो का नरसंहार करने वाला हैवान, कौन है “बिट्टा कराटे उर्फ़ फारूक अहमद डार”

17 Mar, 2022
Employee
Share on :

‘अगर कश्‍मीर में रहना है तो अल्‍लाह-हू-अकबर कहना हैधर्म बदलो, भागो या मर जाओ ये वो नारे है जो 19 जनवरी 1990 को कश्मीर की गलियों में जोरों से गूंजे लगे थे, जिसके बाद कश्मीर में चारों तरफ केवल कश्मीरी पंडितों की दर्द भरी चीखें गूंजने लगी और वक्त ऐसा आया की देश भुला बैठा था कश्मीरी पंडितों के उस दर्द और उन चीखों को जो उस रात गूंजी थी. किसी को नहीं पता की इस नरसंघार के पीछे किन आतंकवादियों और कट्टरपंथियों का हाथ था।

नई दिल्ली: कश्मीर जैसे जन्नत को नरक बनाने वाले हैवान का नाम है Farooq Ahmed Dar उर्फ़ बिट्टा कराटें जिसने उस रात कई कश्मीरी पंडितों को अपने जिहाद की आग में मिला राख कर दिया था। तो चलिए आपको बताते है कौन है बिट्टा कराटे और उसने 90 के दशक में क्या किया जो उसकों हैवान कहा जाने लगा।

बिट्टा कराटे जिसने हजारों कश्मीरी पंडितों को मारा

और यह भी पढ़े- एनसीडब्ल्यू ने राजनीति में महिलाओं के लिए अखिल भारतीय क्षमता निर्माण कार्यक्रम ‘शी इज ए चेंजमेकर’ किया शुरू

90 के दशक में कश्मीरी पंडितों के साथ हुए नरसंहार को “द कश्मीर फाइल्स” के माध्याम से देखने के बाद कश्मीरी पंडितों ने एक बार फिर से अपने उस ही दर्द को महसूस किया है, लेकिन उस दर्द को केवल कश्मीरी पंडितों ने ही महसूस नहीं किया बल्कि उन दर्शकों ने भी महसूस किया, जो द कश्मीर फाइल्स को देखने थिएटर पर पहुँचे हुए थे। जो कश्मीरी पंडित हजारों साल से कश्मीर में रह रहे थे, उन्हें एक ही रात में उनके घर से बेघर कर दिया गया।

आपको जानकार हैरानी होगी की कश्मीर में उस रात आतंकवादियों और जेहादियों ने मिलकर 20 हजार कश्मीरी पंडितों के घरों को जलाकर राखा कर दिया था। कई कश्मीरी पंडितों को मारा दिया और कई कश्मीरी पंडित महिलाओं और उनकी बेटियों के साथ बलात्कार किये गए और जब कश्मीर में सुबह हुई तो जो कभी कश्यप ऋषि की भूमि हुआ करती थी जहाँ पर पंचतन्त्र लिखा गया था उस जगह पर सामूहिक चिताएं जली थीं।

हजारों की संख्या में कश्मीरी पंडितों के मरने के बाद उनके परिजन बिलगते हुए

इन सबके पीछे हाथ था बिट्टा कराटे और उसके लड़कों का। पहले आप इस इंटरव्यू को देखिये और सुनिए बिट्टा कराटे कैसे अपने जुल्मों और हैवानियत को कबूल रहा है।

कौन है बिट्टा कराटे ?

विडियो में आपने जिस आदमी को देखा ये वो ही हैवान है जिसने 90 के दाश्क में कश्मीर को जला कर रख कर दिया था। साल 1990 में कश्मीरी पंडितों के नरसंहार के बाद बिट्टा कराटे ने इंटरव्यू के दौरान बताया की उसे कत्ल करने का ऑर्डर मिलता था। बिट्टा ने सबसे पहले आरएसएस कार्यकर्त्ता सतीश कुमार टिक्कू को मौत के घाट उतारा था। जिसके बाद उसने और 20 लोगों को मौत के घाट उतारा था।

कश्मीरी पंडित को मारने वाला बिट्टा कराटे

बिट्टा ने आगे कहाँ की अगर उससे अपने भाई और माँ को भी मारने का आर्डर मिलता तो वह उनका भी क़त्ल कर देता। लेकिन बाद में बिट्टा इंटरव्यू में कही गयी अपनी सभी बातों से मुकर गया। आपको बता दे कि मिली जानकारी के मुताबिक कुख्यात आतंकी बिट्टा कराटे उर्फ फारूक अहमद डार मौजूदा समय में JKLF यानि जम्मू कश्मीर लिब्रेशन फ्रंट का चेयरमैन है।

बिट्टा कराटे

साल 1990 में कश्मीरी पंडितों के नरसंहार के बाद बिट्टा कराटे ने राजनीति की दुनिया में अपना कदम रखा था लेकिन 1990 में उसे गिरफ्तार कर लिया गया था और 2006 तक यानि की करीब 16 सालों तक साल वह अपने गुन्हओं की सज़ा जेल में काटता रहा। हालाँकि बाद में वह जमानत पर रिहा हो गया और जेल से बहार आते ही बिट्टा ने जम्मू-कश्मीर लिब्रेशन फ्रंट का दामन थाम लिया था। इसके बाद साल 2019 में बिट्टा को NIA ने भी गिरफ्तार किया था।

News
More stories
Japan Earthquake: जापान से सामने आये ड़रावने मंजर, कहीं भूकंप नें मचाई तबाही तो कहीं बुलेट ट्रेन पटरी से उतरी