Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

जानिये कब है करवाचौथ का शुभ मूहूर्त, सटीक पूजा विधि और चंद्रोदय का समय एवं इतिहास

12 Oct, 2022
देशहित
Share on :
karwa chauth 2022 date

जैसा की आप सभी जानते है की दिवाली का पर्व आने वाला है और इस पर्व से पहले महिलाओं में करवा चौथ पर्व का महत्त्व काफी उर्जाजनक होता है आईये आपको बताते है करवाचौथ की पूजा का शुभ मुहूर्त समय और चंद्रोदय का समय  

नई दिल्ली: करवा चौथ का व्रत हर साल कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को रखा जाता है। इस दिन महिलाएं पति की लंबी उम्र के लिए निर्जला उपवास करती हैं और रात को चंद्र दर्शन करने के बाद ही कुछ खाती हैं। इस साल करवा चौथ का व्रत 13 अक्टूबर दिन गुरुवार को रखा जाएगा। करवाचौथ दो शब्दों से मिलकर बना है। पहला करवा यानी मिट्टी का बरतन और चौथ यानी चतुर्थी तिथि, इसलिए करवा चौथ पर मिट्टी के करवे का बड़ा महत्व बताया गया है। सभी सुहागन महिलाएं साल भर इस व्रत का इंतजार करती हैं। आइए जानते हैं करवाचौथ व्रत की पूजा विधि और मुहुर्त।

Karwa Chauth 2022 करवा चौथ पर बन रहा है शुभ योग,जानिए शुभ मुहूर्त और पूजा विधि
Karva chauth 2022

करवा चौथ पूजा का शुभ मुहूर्त:

इस बार 13 अक्टूबर 2022 को करवा चौथ का शुभ मुहूर्त है। 13 अक्टूबर 2022, रविवार के दिन शाम 5:46 से 6:50 तक यह शुभ मूहूर्त रहेगा। इसका मतलब आप करीब 1 घंटा तक इसकी पूजा कर सकते हैं। इस दिन की पूजा दो चांद के दीदार के बाद ही खत्म होती है। अथार्त् आपके पति और आसमान के चांद। करवा चौथ के दिन चांद निकलने का समय है करीब रात 8:00 बजे से 8:40 के बीच।

ये भी पढ़े: मार्क जुकरबर्ग के फेसबुक फॉलोअर्स 9,997 बचे, फेसबुक बग की वजह से घटे करोड़ो फॉलोअर्स

करवा चौथ सरगी

करवा चौथ सरगी इस त्योहार के सबसे महत्वपूर्ण अनुष्ठानों में से एक है। यह एक विशेष थाली है जिसमें विवाहित महिलाओं को उनकी सास द्वारा दिए गए विभिन्न खाद्य पदार्थ और उपहार होते हैं। करवा चौथ के दौरान महिलाएं सुबह जल्दी उठकर स्नान करती हैं और सूर्योदय से पहले सरगी खाती हैं।

करवा चौथ का श्रृंगार

करवा चौथ पूजा शुरू करने और शुभ अनुष्ठान शुरू करने से पहले विवाहित महिलाएं नई दुल्हन की तरह तैयार हो जाती हैं। वे नए कपड़े पहनते हैं (अधिमानतः लाल रंग में) और पारंपरिक अनुष्ठानों के एक भाग के रूप में सोलह श्रृंगार करते हैं – यह एक सुखी विवाह का प्रतीक है।

करवाचौथ के दिन ऐसे करें पूजा की तैयारी

Karwa Chauth 2022: करवा चौथ पर क्यों की जाती है चंद्रमा की पूजा जानिए इसका  ज्योतिषीय और वैज्ञानिक तर्क - Karwa Chauth 2022 Why Moon is worshiped on  Karwa Chauth know its
Karva chauth 2022

करवा चौथ के व्रत पर चंद्रमा के दर्शन के लिए थाली सजाएं। थाली में दीपक, सिंदूर, अक्षत, कुमकुम, रोली और चावल की बनी मिठाई या सफेद मिठाई रखें। संपूर्ण श्रृंगार करें और करवे में जल भरकर मां गौरी और गणेश की पूजा करें। चंद्रमा के निकलने पर छन्नी से या जल में चंद्रमा को देखें और अर्घ्य दें। करवा चौथ व्रत व्रत की कथा सुनें।

करवा चौथ व्रत की पूजा विधि
1. करवाचौथ के दिन महिलाएं सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि कर लें। इसके बाद व्रत को पूरे विधि विधान के साथ करने का संकल्प लें।

2. स्नान आदि के बाद इस दिन सबसे पहले शिव परिवार की पूजा करें और निर्जला व्रत रखें।

3. साथ ही ध्यान रखें की सुहागन महिलाएं इस दिन सोलह श्रृंगार जरुर करें।

4. इसके बाद घर के उत्तर पूर्व दिशा में करवा माता की मूर्ति स्थापित करें या फिर बाजार ले लाया हुआ कैलेंडर दीवार पर लगा दें।

5. माता गौरी को लाल चुनरी और सुहाग का सामान भी अर्पित करें। साथ ही मां गौरी के सामने एक मिट्टी के कलश में पानी भरकर रख दें। इसके बाद पूरे विधि विधान के साथ शिव परिवार की विधिपूर्वक पूजा करें।

6. इसके बाद अपनी सास को श्रृंगार का सामान कपड़े और कुछ दक्षिणा रखकर सामान भेंट करें। साथ में खाना और कुछ मीठा भी जरूर रखें।

7. रात में चंद्रमा को देखकर ही सबसे पहले अर्घ दें और फिर छलनी से पहले चंद्रमा को देखें और फिर अपने पति को देखकर व्रत खोले।

Karwachauth 2022: करवाचौथ व्रत कथा और महत्व, जाने क्यों सुनें करवाचौथ की  कहानी
Karva Chauth 2022

करवाचौथ व्रत का महत्व

पति की लंबी उम्र के लिए सुहागिन महिलाएं निर्जला व्रत करती हैं। करवा चौथ का व्रत में मां पार्वती की पूजा की जाती है और उनसे अखंड सौभाग्य की कामना की जाती हैं। इस व्रत में माता गौरी के साथ साथ भगवान शिव और कार्तिकेय और भगवान गणेश की भी पूजा अर्चना की जाती है। इस व्रत में मिट्टे के करने का बहुत महत्व है। इसे किसी ब्राह्मण या फर किसी सुहागन महिला को दान में दिया जाता है

करवा चौथ कहाँ मनाया जाता है?

यह हिंदू त्योहार बड़े पैमाने पर भारत के उत्तरी क्षेत्र में मनाया जाता है जिसमें पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और हिमाचल प्रदेश शामिल हैं।

करवा चौथ का त्यौहार मनाने के पीछे की कहानी

Karva Chauth 2022: पहला करवा चौथ व्रत नहीं रख सकेंगी सुहागिनें, शुक्र अस्त  होने से प्रभाव‍ित होंगे यह कार्य - Karva Chauth 2022 Married women will not  be able to keep the
Karva chauth 2022

इस त्योहार को मनाने के पीछे कई कहानियां और किंवदंतियां हैं। यहाँ उनमें से कुछ हैं:

महाभारत में कहानी

अपने पति की भलाई के लिए उपवास रखने के पीछे एक और किंवदंती महाभारत-युग की है। ऐसा माना जाता है कि द्रौपदी ने भी अपने पति की सुरक्षा और लंबी उम्र के लिए यह व्रत किया था।

 कहानी: जब अर्जुन नीलगिरी में तपस्या के लिए गए थे, तो उनकी अनुपस्थिति में बाकी पांडवों को कई मुद्दों का सामना करना पड़ा। तभी द्रौपदी ने भगवान कृष्ण को उनकी मदद के लिए याद किया, जिन्होंने उन्हें याद दिलाया कि ऐसी ही स्थिति में पहले देवी पार्वती ने भगवान शिव के लिए व्रत रखा था। इससे प्रेरित होकर द्रौपदी भी अपने पतियों के लिए करवा चौथ का व्रत रखती है और फलस्वरूप, पांडव अपनी समस्याओं का सामना करने और उन्हें दूर करने में सक्षम हैं।

करवा की कहानी

एक अन्य लोकप्रिय कहानी करवा नाम की एक महिला की कथा है जो एक समर्पित पत्नी थी। 

कहानी: एक बार नदी में नहाते समय करवा के पति को एक मगरमच्छ ने पकड़ लिया। उसे बचाने के लिए करवा ने मगरमच्छ को सूती धागे से बांध दिया और मृत्यु के देवता- यम को जानवर को नरक में भेजने के लिए कहा। जब यम ने मना कर दिया, तो उसने अपने श्राप से उसे नष्ट करने की धमकी दी। तब भयभीत यम ने मगरमच्छ को नरक भेज दिया और करवा के पति को लंबी आयु का आशीर्वाद दिया और इसलिए करवा और उसका पति एक साथ खुशी-खुशी रहने लगे।

रानी वीरवती की कथा

सबसे लोकप्रिय कहानी वीरवती नाम की खूबसूरत रानी की है, जो सात प्यारे भाइयों की इकलौती बहन थी। उन्होंने अपना पहला करवा चौथ एक विवाहित महिला के रूप में अपने माता-पिता के घर पर बिताया। उसने सूर्योदय के बाद उपवास करना शुरू किया, लेकिन शाम तक, चंद्रमा के उगने का बेसब्री से इंतजार कर रही थी। वह अब और प्यास और भूख नहीं सह सकती थी। करवा चौथ के लिए अपनी प्यारी बहन कोप्यास और भूख से तड़पता देख उसके भाई बहुत दुखी हुए। उन्होंने उससे अनशन तोड़ने की भीख मांगी लेकिन उसने मना कर दिया। उन्हें संकट में देखकर पीपल के पेड़ में गोल शीशा लगाकर उनके साथ छल किया, जिससे ऐसा लग रहा था मानो चंद्रमा उग आया हो। उसे समझाने के लिए एक झूठा चाँद बनाया गया था कि चाँद निकल आया है। इसलिए, वीरवती अपने भाइयों की चाल के लिए गिर गई और उसने अपना उपवास तोड़ दिया। जिस क्षण वह खाने बैठी।

Edited by Deshhit news

News
More stories
आगामी 05 से 10 दिसम्बर से आयोजित होने वाले हरिद्वार महोत्सव को कलेक्ट्रेट भवन में हुई बैठक I