Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

मिलिए बेंगलुरु ऑटो ड्राइवर से जो कभी अंग्रेजी लेक्चरर हुआ करता था

29 Mar, 2022
Employee
Share on :
जब बेंगलुरु की एक पेशेवर निकिता अय्यर ने अपने ऑटोरिक्शा चालक को अंग्रेजी में इतने अच्छे से बोलते सुना, तो वह हैरान रह गई। जिज्ञासु युवती ने ड्राइवर से पूछा तो पता चला कि वह एक कॉलेज में इंग्किलिस प्रोफेसर था  

74 वर्षीय ऑटो चालक ने एक अंग्रेजी व्याख्याता के रूप में अपने पूर्व जीवन और अपनी जिन्दगी के बारे में बहुत कुछ बताया। 

सुश्री अय्यर ने एक लिंक्डइन पोस्ट में अपनी इस अनोखे मुलाकात का दस्तावेजीकरण किया, जो ऑनलाइन वायरल हो गई है। उसने अपनी पोस्ट में लिखा, "आज सुबह, काम पर जाते वक्त, राजमार्ग के बीच में एक उबर ऑटो चालक मिला और मुझसे पूछा कि मुझे कहाँ जाना है." पहले तो उसे संदेह हुआ, उसने ऑटो चालक से कहा कि उसे शहर के दूसरे छोर पर अपने कार्यालय पहुंचने की जरूरत है और वह देर हो चुकी है। ड्राइवर ने अंग्रेजी में जवाब दिया, जो उसके लिए बहुत आश्चर्य की बात थी। सुश्री अय्यर ने लिखा, "उन्होंने अंग्रेजी में कहा,"कृपया अंदर आएं मैम, आप जो चाहें भुगतान कर सकते हैं।" 

इसे भी पढ़ें - विल स्मिथ ने सार्वजनिक तौर पर मांगी क्रिस रॉक से माफी

इस तरह के व्यवहार से स्तब्ध, मैंने कहा ठीक है और उसके बाद जो हुआ वह बहुत ही समृद्ध 45 मिनट था।" सुश्री अय्यर ने अपनी जिज्ञासा को शांत करने क लिए ड्राइवर से पूछा कि वह "इतनी अच्छी अंग्रेजी कैसे बोलता है", तो उस व्यक्ति ने खुलासा किया कि वह मुंबई के एक कॉलेज में एक अंग्रेजी व्याख्याता हुआ करता था और उसने एमए और एमएड किया था। उन्होंने सुश्री अय्यर के अगले प्रश्न की भी भविष्यवाणी की: "तो आप मुझसे पूछने जा रहे हैं कि मैं एक ऑटो क्यों चला रहा हूँ?"

सकारात्मक प्रतिक्रिया मिलने पर ऑटो चालक ने अपने जीवन के बारे में खुल कर बात की। उसने खुलासा किया कि उसका नाम पताबी रमन था और कॉलेज से सेवानिवृत्त होने के बाद वह 14 साल से ऑटो चला रहा है। श्री रमन ने खुलासा किया कि उन्होंने मुंबई में एक व्याख्याता के रूप में काम किया क्योंकि उन्हें कर्नाटक में कोई नौकरी नहीं मिली।

कर्नाटक के कॉलेजों से मिली इस प्रतिक्रिया से तंग आकर श्री रमन महाराष्ट्र के मुंबई चले गए जहां उन्हें एक प्रतिष्ठित कॉलेज में नौकरी मिल गई। 60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त होने से पहले उन्होंने पवई के उस कॉलेज में 20 साल तक काम किया और कर्नाटक के बेंगलुरु वापस चले गए।

"शिक्षकों को अच्छी तरह से भुगतान नहीं मिलता है। आप अधिकतम 10-15,000 / - कमा सकते हैं और चूंकि यह एक निजी संस्थान था, इसलिए मुझे पेंशन नहीं मिला। रिक्शा चलाने से मुझे कम से कम 700-1500 / - एक दिन में मिलता है जो मेरे और मेरी प्रेमिका के लिए पर्याप्त है," हंसते हुए सुश्री अय्यर से कहा। ऑटो चालक ने आगे बताया कि वह अपनी पत्नी को ही प्रेमिका बोलते हैं. 

उनका और उनकी पत्नी का एक बेटा है जो उनकी जिवानसैली चलाने में मदद करता है। उन्होंने कहा, "लेकिन इससे आगे हम अपने बच्चों पर निर्भर नहीं हैं। वे अपना जीवन जीते हैं और हम खुशी-खुशी अपना जीवन व्यतीत करते हैं।"

निकिता अय्यर ने मिस्टर रमन की प्रशंसा के कुछ शब्दों के साथ अपना पोस्ट समाप्त किया। 

News
More stories
Lakhimpur kheri Case: आशीष मिश्रा के केस में यूपी सरकार ने SC में जवाब दाखिल किया, पीड़ित परिवार वालों के आरोपों से किया इनकार