Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

दूसरे कार्यकाल में CM योगी का आया पहला फैसला: मुफ्त राशन योजना का विस्तार

26 Mar, 2022
Employee
Share on :

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में फीर से सरकार बनाने के बाद योगी आदित्यनाथ सरकार ने अपनी मुफ्त राशन योजना को तीन महीने के लिए बढ़ाने का फैसला किया है। आज यानि 26 मार्च को योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई पहली कैबिनेट बैठक में यह निर्णय लिया गया। मालूम हो, योगी आदित्यनाथ ने कल दूसरी बार यूपी के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी।

योगी आदित्यनाथ ने एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य में कुल 15 करोड़ लोगों को इस योजना से लाभ होगा। वहीं, उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक का कहना है कि यूपी में तीन महीने तक मुफ्त राशन दिया जाएगा। उन्होंने यह फैसला गरीबों को ध्यान में रखते हुए लिया है। लखनऊ के लोक भवन में हुए कैबिनेट बैठक के बाद बृजेश पाठक ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार की नीतियों को लोगों तक सही तरीके से पहुंचाना ही उनका लक्ष्य है।

बता दें, मुफ्त राशन योजना, जो कोविड महामारी के दौरान शुरू की गई थी, इसी साल मार्च महीने में समाप्त होने वाली थी। लेकिन अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने योजना को 31 मार्च से तीन महीने के लिए बधाकर 30 जून, 2022 तक करने का निर्णय लिया है। शुक्रवार को दूसरे कार्यकाल के लिए मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद यह उनका पहला फैसला है। यूपी सरकार इस योजना के लिए ₹3,270 करोड़ खर्च करेगी।

इसे भी पढ़ेंयूएस प्रीमियर शोज में RRR ने बनाया रिकॉर्ड, राम बनकर घूमते दिखें लोग।

बात मुफ्त राशन योजना की करें तो इस योजना में ‘प्रति परिवार प्रति माह’ पांच किलोग्राम अनाज देने का प्रावधान है। इसे पहली बार केंद्र सरकार द्वारा 2020 में लागू किया गया था जब COVID-19 महामारी आई थी।

योगी आदित्यनाथ, 37 साल का रिकॉर्ड तोड़कर, राज्य में अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद सत्ता में लौटने वाले पहले मुख्यमंत्री हैं। शनिवार को लोगों को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा कि ‘नए कैबिनेट का यह पहला फैसला है और इसे पारदर्शी तरीके से लागू किया जाएगा।”

भव्य समारोह में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा के मुख्यमंत्रियों और नीतीश कुमार जैसे सहयोगियों ने भी भाग लिया।

बता दें, बीजेपी ने उत्तर प्रदेश में 403 में से 255 सीटों पर जीत हासिल कर सत्ता बरकरार रखी और 41.29 फीसदी वोट शेयर हासिल किया।

News
More stories
Yogi Cabinet: जानिए क्यों है दानिश आज़ाद अंसारी चर्चाओं में,जो योगी सरकर में मंत्री बने ?