रामपुर तिराहा कांड में 30 साल बाद फैसला लंबे इंतजार के बाद पीड़िता को मिला न्याय, अदालत ने दोषियों को आजीवन कारावास की सुनाई सजा

19 Mar, 2024
Head office
Share on :

8 मार्च 2024 को, उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में हुए बहुचर्चित रामपुर तिराहा कांड में न्याय की जीत हुई। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश शक्ति सिंह की अदालत ने दोषी पीएसी के सिपाहियों, मिलाप सिंह और वीरेंद्र सिंह को आजीवन कारावास की सजा सुनाई।

यह फैसला 30 साल पुराने इस मामले में पीड़ितों और उनके परिवारों के लिए न्याय दिलाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

मामले की पृष्ठभूमि:

2 अक्टूबर 1994 को, पृथक राज्य गठन की मांग को लेकर उत्तराखंड के लोग दिल्ली जा रहे थे।
मुजफ्फरनगर के छपार थाना क्षेत्र में रामपुर तिराहा पर पुलिस और पीएसी ने इन्हें रोक लिया।
टकराव होने पर पुलिस ने फायरिंग की, जिसमें सात आंदोलनकारियों की मौत हो गई।
इसके अलावा, दो महिलाओं के साथ दुष्कर्म का भी आरोप लगा था।
इस मामले में सीबीआई ने विवेचना पूरी कर न्यायालय में चार्जशीट दाखिल की थी।

कोर्ट का फैसला:

15 मार्च 2024 को, कोर्ट ने दोनों आरोपियों को दोषी ठहराया था।
18 मार्च 2024 को, सजा के प्रश्न पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने दोनों आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई।

मामले का महत्व:

यह फैसला न्यायिक प्रणाली की सफलता का प्रतीक है।
यह पीड़ितों और उनके परिवारों के लिए न्याय दिलाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।
यह सामाजिक न्याय और समानता के लिए एक महत्वपूर्ण घटना है।

उदाहरण:

इस मामले में, न्यायालय ने पीड़ितों और उनके परिवारों की गवाही को ध्यान में रखते हुए फैसला सुनाया।
यह फैसला दर्शाता है कि न्यायिक प्रणाली पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है।
अगली कदम:

दोषी इस फैसले के खिलाफ उच्च न्यायालय में अपील कर सकते हैं।
यह महत्वपूर्ण है कि इस मामले को समाज में न्याय और समानता को बढ़ावा देने के लिए एक उदाहरण के रूप में इस्तेमाल किया जाए।
इसके अतिरिक्त:

इस मामले ने पुलिस की बर्बरता और महिलाओं के खिलाफ हिंसा जैसे मुद्दों को उजागर किया है।
यह महत्वपूर्ण है कि इन मुद्दों पर सामाजिक और राजनीतिक स्तर पर चर्चा हो और इनके समाधान के लिए ठोस कदम उठाए जाएं।
यह एक महत्वपूर्ण मामला है जिसका समाज पर गहरा प्रभाव पड़ेगा।

यह फैसला न्याय की जीत का प्रतीक है और यह दर्शाता है कि न्यायिक प्रणाली पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है।

संदीप उपाध्याय

News
More stories
चुनाव और होली पर अवैध शराब: आबकारी विभाग सतर्क
%d bloggers like this: