Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव नहीं रहे,प्रधानमंत्री मोदी समेत इन नेताओं ने दी भावपूर्ण श्रद्धांजलि

10 Oct, 2022
Head office
Share on :

पांच दशक से ज्यादा लंबे राजनीतिक सफर में मुलायम यादव कई उतार-चढ़ाव देखे. राम मनोहर लोहिया से प्रभावित होकर राजनीति में उतरे मुलायम यादव को साल 1975 में इमरजेंसी के दौरान जेल जाना पड़ा था.

लखनऊ : समाजवादी पार्टी के संस्थापक और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव नहीं रहे. उन्होंने आज सुबह 8 से 8:30 बजे के बीच अंतिम सांस ली. नेताजी को 22 अगस्त को मेदांता अस्पताल में भर्ती किया गया था. 1 अक्टूबर की रात को ICU में किया गया था. 

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और परिवार के अन्य सदस्य उनके साथ ही हैं। दिल्ली से उनका शव लखनऊ लाने की तैयारी है। यहां से फिर इटावा ले जाया जाएगा। कल तीन बजे मुलायम सिंह यादव का सैफई में अंतिम संस्कार किया जाएगा। उधर, मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल पहुंचेंगे।

5 दशक से ज्यादा लंबे राजनीतिक सफर में मुलायम यादव कई उतार-चढ़ाव देखे. राम मनोहर लोहिया से प्रभावित होकर राजनीति में उतरे मुलायम यादव को साल 1975 में इमरजेंसी के दौरान जेल जाना पड़ा. उन्होंने अपने गुरु नत्थूसिंह के कहने पर पहला विधानसभा चुनाव लड़ा और जीतकर इतिहास रच दिया. इसके बाद मुलायम सिंह यादव ने कभी पीछे मुड़कर ही नहीं देखा. राजनीतिक सफर में वे 8 बार MLA बने, 7 बार सांसद बने, 3 बार उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री, 1 बार एमएलसी और 1 बार केंद्र में रक्षा मंत्री भी रहे. राम मनोहर लोहिया के आदर्शों पर ही उन्होंने अक्टूबर 1992 में समाजवादी पार्टी की स्थापना की.

तीन बार रहे चुके थे यूपी के मुख्यमंत्री

मुलायम सिंह यादव , उत्तर प्रदेश के तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं. पहली बार उन्होंने 1989 में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली और 1991  तक पद पर काबिज रहें. दूसरी बार 1993 से 1995 तक मुख्यमंत्री रहे और तीसरी बार 2003 से 2007 तक मुख्यमंत्री का कार्यकाल रहा. इसके अलावा संयुक्त मोर्चा (यूनाइटेड फ्रंट) सरकार में 1996-98 तक डिफेंस मिनिस्टर थे.

संघर्षों से तय किया था सैफई से शिखर तक का सफर 

मुलायम 1967 में पहली बार विधायक बने थे। वह आठ बार विधायक और 7 बार सांसद रहे। तीन बार यूपी के मुख्‍यमंत्री और दो बार केंद्र में मंत्री रहे। देश के रक्षा मंत्री रहते मुलायम सिंह यादव ने सीमा पर जाकर सेना का दिल जीत लिया था। मुलायम सिंह सैफई से सत्‍ता के शिखर तक का सफर बड़े ही संघर्षों के साथ तय किया था।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और परिवार के अन्य सदस्य उनके साथ ही हैं। दिल्ली से उनका शव लखनऊ लाने की तैयारी है। यहां से फिर इटावा ले जाया जाएगा। कल तीन बजे मुलायम सिंह यादव का सैफई में अंतिम संस्कार किया जाएगा। उधर, मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल पहुंचेंगे।

मुलायम सिंह यादव के इस तरह जाने से देश में शोक का माहौल है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, केशव प्रसाद मोर्या समेत कई नेताओं ने भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी है. 

PM मोदी ने दी श्रद्धांजलि.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेताजी के देहांत पर उन्हें भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी है और ट्वीट पर उनको 2 फोटो शेयर की. प्रधानमंत्री मोदी ने लिखा कि जब हमने अपने-अपने राज्यों के मुख्यमंत्रियों के रूप में काम किया, तब मुलायम सिंह यादव जी के साथ मेरी कई बातचीत हुई। घनिष्ठता जारी रही और मैं हमेशा उनके विचारों को सुनने के लिए उत्सुक था। उनका निधन मुझे पीड़ा देता है। उनके परिवार और लाखों समर्थकों के प्रति संवेदना। शांति।

आगे PM मोदी ने लिखा श्री मुलायम सिंह यादव जी एक विलक्षण व्यक्तित्व के धनी थे। उन्हें एक विनम्र और जमीन से जुड़े नेता के रूप में व्यापक रूप से सराहा गया, जो लोगों की समस्याओं के प्रति संवेदनशील थे। उन्होंने लगन से लोगों की सेवा की और लोकनायक जेपी और डॉ. लोहिया के आदर्शों को लोकप्रिय बनाने के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया।

नितिन गडकरी ने दी भावपूर्ण श्रद्धांजलि  

केंद्रीय मंत्री नि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी मुलायम सिंह यादव को याद किया और ट्वीट कर लिखा कि उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह यादव जी के निधन का समाचार दुःखद है. उन्हें मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि.

केशव प्रसाद मोर्या ने भावपूर्ण श्रद्धांजलि

यूपी के डिप्टी मुख्यमंत्री केशन प्रसाद मोर्या ने भी मुलायम सिंह यादव को याद किया और ट्वीट कर लिखा कि सपा पार्टी के संस्थापक व वरिष्ठ राजनेता एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री मुलायम सिंह यादव जी का निधन अत्यंत दुःखद है. उनका निधन राजनीतिक जगत के लिए अपूरणीय क्षति है. ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें एवं परिजनों तथा समर्थकों को यह असीम दु:ख सहन करने की शक्ति दें.

योगी आदित्यनाथ ने फोन पर की बात

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लिखा कि उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री मुलायम सिंह यादव जी का निधन अत्यंत दुखदायी है. उनके निधन से समाजवाद के एक प्रमुख स्तंभ एवं एक संघर्षशील युग का अंत हुआ है. ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति की कामना व शोकाकुल परिवार एवं समर्थकों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूँ. उन्होंने आगे लिखा कि श्री मुलायम सिंह यादव जी के निधन पर उत्तर प्रदेश सरकार तीन दिन के राजकीय शोक की घोषणा करती है. उनका अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ होगा. इसके अलावा शोक की इस घड़ी में उनके पुत्र श्री अखिलेश यादव जी से दूरभाष पर वार्ता कर अपनी शोक संवेदनाएं व्यक्त कीं.

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने दी श्रद्धांजलि

देश की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने लिखा कि मुलायम सिंह यादव का निधन देश के लिए अपूरणीय क्षति है. साधारण परिवेश से आए मुलायम सिंह यादव जी की उपलब्धियां असाधारण थीं. ‘धरती पुत्र’ मुलायम जी जमीन से जुड़े दिग्गज नेता थे. उनका सम्मान सभी दलों के लोग करते थे. उनके परिवार-जन व समर्थकों के प्रति मेरी गहन शोक -संवेदनाएं.

प्रियंका गाँधी ने दी भावपूर्ण श्रद्धांजलि

प्रियंका गांधी ने भी मुलायम सिंह यादव को उनके जाने पर याद किया और ट्वीट कर लिखा कि श्री मुलायम सिंह यादव जी के निधन का दुखद समाचार मिला. भारतीय राजनीति में उप्र के पूर्व मुख्यमंत्री, भारत सरकार के रक्षामंत्री व सामाजिक न्याय के सशक्त पैरोकार के रूप में उनका अतुलनीय योगदान हमेशा याद रखा जाएगा. उन्होंन आगे अखिलेश यादव को टैग करते लिखा कि अखिलेश यादव और अन्य सभी प्रियजनों के प्रति मेरी गहरी शोक संवेदनाएं.

News
More stories
मुंशी प्रेमचंद्र की पुण्यतिथी पर उनके जीवन से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें