इक्फ़ाई विवि में भू-राजनीति एवं अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर हुआ व्याख्यान I

26 May, 2023
देशहित
Share on :

देहरादून : अंतर्राष्ट्रीय पटल पर भू-राजनीति ही देशों के बीच आर्थिक संबंधों को प्रभावित करती हैं और मौजूदा दौर में रूस यूक्रेन युद्ध इसका सबसे सटीक उदहारण है। दरसल यह बात भू-राजनीति एवं अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर आयोजित व्याख्यान में बतौर मुख्य अतिथि वरिष्ठ पत्रकार मनीष झा ने छात्रों से कही। इक्फ़ाई विवि में अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध एवं अध्ययन कार्यालय के द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में भू-राजनीति एवं अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर इसके प्रभाव पर गहन विमर्श हुआ।

एक विस्तृत व्यख्यान के तहत अंतर्राष्ट्रीय व्यापार कई अन्य पहलुओं पर भी मंथन किया गया। बतौर मुख्य वक्ता झा ने बताया कि वैश्विक व्यापार के लिए किसी देश की सरकार के द्वारा मुक्त बाजार को समर्थित करना भी जरूरी होता है। जैसे 1990 के दशक में भारत के द्वारा कई आर्थिक सुधार किये गए जिसके अंतर्गत कई आर्थिक प्रतिबंधों को हटाया गया और भारत ने आर्थिक विकास के क्षेत्र में काफी तेज दौड़ लगाई। उन्होंने कहा कि आज दुनियां के उन देशों को भी मुक्त बाजार की व्यवस्था को अपनाना पड़ा जो समाजवाद और साम्यवाद पर आधारित थे। कार्यक्रम में मौजूद श्रोताओं के एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा दो देशों के बीच राजनीतिक संबंधों का तनाव व्यापार को प्रभावित तो करता है लेकिन फ्री ट्रेड एग्रीमेंट इस प्रभाव को काफी हद तक कम कर सकता है और निवेशकों को उनके निवेश को नुकसान न पहुंचने को भी आश्वस्त करता है।

कार्यक्रम के अंत में विश्वविद्यालय के वाईस चांसलर डॉ रामकरण सिंह ने कहा कि आज के नवोन्मेष एवं उद्यमता के दौर में छात्रों में अंतर्राष्ट्रीय संबंधों की समझ होना काफी आवश्यक है यह समझ उन्हें वैश्विक बाजार से लाभ लेने के लिए समर्थ बनाती है। डॉ रामकरण ने विदेश में अपने एक अनुभव को साझा करते हुए कहा छात्रों को भू-राजनीति के साथ साथ भू- धार्मिक संबंधों को भी समझने की भी जरूरत है। भारत वसुधैव कुटुंबकम की अवधारणा को मानने वाला देश है और यदि छात्र दुनियां के विभिन्न धर्मों का भी थोड़ा ज्ञान रखेंगे तो उन्हें किसी भी देश में काम करने में आसानी होगी। व्याख्यान में विश्वविद्यालय के प्रोफेसर, शोधकर्ता सहित बड़ी संख्या में छात्र मौजूद रहे। इस कार्यक्रम में रजिस्ट्रार डॉ मोनिका खरोला, डॉ राघवेंद्र शर्मा डॉ तपन चंदोला एवं प्रोफेसर अमित दास ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज की।

News
More stories
मुख्यमंत्री धामी हरिद्वार में विश्व हिन्दू परिषद द्वारा आयोजित केन्द्रीय मार्ग दर्शक मण्डल की बैठक में प्रतिभाग किया।