Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

किरण बेदी ने इक्फ़ाई (ICFAI) विश्वविद्यालय में छात्रों को दिए निर्भीकता के मंत्र

25 Mar, 2022
Employee
Share on :
Kiran Bedi Icfai Dehradun

आध्यात्म, योग एवं खेल के जरिये युवा स्वयं में निर्भीकता के गुण पैदा कर सकते हैं“किरण बेदी

देहरादून: आध्यात्म, योग एवं खेल के जरिये युवा स्वयं में निर्भीकता के गुण पैदा कर सकते हैं, गत शुक्रवार को देहरादून
स्थित इक्फ़ाई विश्वविद्यालय में छात्रों को सम्बोधित करते हुए पूर्व आईपीएस अधिकारी डॉ. किरण बेदी ने साहसिक जीवन के यही मंत्र दिए। विश्वविद्यालय के प्राधिकारी, प्रोफ़ेसर एवं छात्रों से खचाखच भरे सभागार में डॉ किरण बेदी ने अपनी पुस्तक फियरलैस गवर्नेंस पर छात्रों को व्याख्यान दिया एवं उनसे संवाद भी किया।

Kiran Bedi In ICFAI Dehradun


व्याख्यान के दौरान देश की पहली महिला आईपीएस डॉ. किरण बेदी ने निर्भीक बनने के लिए नैतिक मूल्यों के विकास पर अधिक जोर दिया।डॉ. बेदी ने इक्फ़ाई सभागार को सम्बोधित करते हुए कहा कि आज के दौर में समाज को लड़कों को जिम्मेदार एवं लड़कियों को साहसिक बनाना चाहिए। डॉ बेदी ने कहा कि पढ़ने के साथ-साथ खेल, आध्यात्म या योग किसी व्यक्ति के चारित्रिक विकास में बेहद अहम् भूमिका निभाते हैं। उन्होंने ख़ुद के द्वारा पूर्व में प्रशासनिक पदों पर रहते हुए किये जाने वाले साहसिक कार्यों का भी उदाहरण पेश किया। इक्फ़ाई विश्वविद्यालय में बतौर मुख्य अतिथि बोलते हुए डॉ बेदी ने बताया कि जब वह पुदुचेरी राज्य में लेफ्टिनेंट गवर्नर थीं तो उन्होंने जमीन पर समस्यायों को स्वयं जानने की कोशिश की ताकि उनसे बेहतर तरीके से निपटा जा सके।


एक प्रश्न का जवाब देते हुए डॉ. बेदी ने कहा कि केंद्र शासित राज्यों में एलजी एवं निर्वाचित सरकार के बीच टकराव वहीं होता है जहाँ पर संविधान एवं नियमों की अनदेखी की जाती है। डॉ बेदी के अनुसार पुदुचेरी की एलजी रहते हुए उन्होंने टकराव की चुनौतियों का सामना किया लेकिन उन्होंने नियमों के अनुसार निर्णय लेने को ही वरीयता दी।

ICFAI Dehradun

बताते चलें कि इक्फ़ाई विश्वविद्यालय देहरादून ने एन.जे. यश्वशी टॉक सीरीज के अंतर्गत देश की विख्यात वक्ता एवं भूतपूर्व पुलिस अधिकारी डॉ. किरण बेदी को सम्बोधन के लिए आमंत्रित किया था। कार्यक्रम की शुरुआत डॉ किरण बेदी के द्वारा विश्वविद्यालय परिसर में वृक्षारोपण के साथ हुई तथा इस मौके पर उनके साथ विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ राम करन सिंह तथा कुलसचिव ब्रिगेडियर (से.नि.) राजीव सेठी भी मौजूद रहे।
दरसल पूर्व में डॉ किरण बेदी की किताब फियरलैस गवर्नेंस का विमोचन किया गया है जिसमें उन्होंने अपने पूर्व प्रशासनिक अनुभव को साझा करते हुए गवर्नेंस में निर्भीकता की भूमिका पर चर्चा की है।


इस कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ राम करन सिंह ने विश्वविद्यालय की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला एवं अंत में कुलसचिव ब्रिगेडियर (से.नि.) राजीव सेठी ने धन्यवाद प्रस्ताव पढ़कर कार्यक्रम को समाप्त किया। कार्यक्रम के अंत में संस्था के मार्केटिंग हेड श्रीकांत पोथुरी की मौजूदगी में इक्फ़ाई विश्वविद्यालय देहरादून के विज़न डॉक्यूमेंट 2022 का डॉ किरण बेदी के द्वारा लोकार्पण भी किया गया। इस दौरान मैनेजमेंट विभाग से डॉ. राजीव मालवीय, इंजीनियरिंग विभाग से डॉ. संजीव कुमार, अमित दास एवं लॉ विभाग से डॉ. मोनिका खरोला, मृगांक्षी विल्सन, पार्थ उपाध्याय सहित तमाम प्रोफेसर एवं छात्र मौजूद रहे।

News
More stories
योगी के 2.O कैबिनेट में किसको मिली जगह...केशव प्रशव मौर्या और ब्रजेश पाठक बने उपमुख्यमंत्री...