Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

जयशंकर ने ब्रिटेन की विदेश मंत्री लिज ट्रस से की बातचीत, रूस-यूक्रेन युद्ध पर विदेशमंत्री ने दिया दो-टूक में जवाब

01 Apr, 2022
Employee
Share on :

रूस-यूक्रेन युद्ध शुरू होने के बाद भारत ने रूस से 1.6 करोड़ बैरल तेल खरीदा है, जो कि पिछले साल के मुकाबले में 1.3 करोड़ बैरल तेल से ज्यादा ख़रीदा है.

नई दिल्ली: रूस के खिलाफ कड़ा रूख ना अपनाने और उसकी आलोचना न करने के लिए कई सारे देश भारत की आलोचना कर रहे हैं. इन्हीं आलोचनाओं का जवाब देते हुए भारतीय विदेश मंत्री एस ने कहा है कि यूरोप रूस से युद्ध के पहले की तुलना में कई गुना ज्यादा तेल खरीद रहा है. ब्रिटिश विदेश सचिव लिज़ ट्रस की उपस्थिति में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ये टिप्पणी की है. जयशंकर ने कहा, “जब तेल की कीमतें बढ़ती हैं, तो ये स्वाभाविक है कि कोई भी देश बाजार में जाकर देखेगा कि उनके लोगों के लिए क्या अच्छा सौदा हैं. वह अपने सारे विकल्पों पर विमर्श करेगा. न की किसी के कह देने भर से कोई देश अपना फैसला तत्काल ही दे देगा.

ब्रिटेन की विदेशमंत्री लिज़ ट्रस और भारत के विदेशमंत्री एस. जयशंकर के बीच मुलाक़ात

जयशंकर ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि मुझे पूरा यकीन है कि अगर हम दो या तीन महीने तक प्रतीक्षा करें और उसके बाद वास्तविकता को देखें कि रूसी तेल और गैस के बड़े खरीदार कौन हैं, तो मुझे संदेह है कि सूची पहले की तुलना में बहुत अलग नहीं होगी. हम रूस से तेल और प्राकृतिक गैस की खरीददारी की सूची में शीर्ष 10 में भी नहीं होंगे. एस. जयशंकर की ये टिप्पणी ऐसे समय पर आई है जब रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव दो दिवसीय दौरे पर भारत आई हैं.

और यह भी पढ़ें- युद्ध के दौरान रूस पर लगे प्रतिबन्ध के बीच रूस भारत को बेचेगा सस्ता तेल, क्या भारत में हो सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम कम ?

रूस-यूक्रेन युद्ध पर भारत-ब्रिटेन के मतभेद

ब्रिटिश विदेश मंत्री लिज ट्रस के भारत दौरे के दौरान रूस पर प्रतिबंधों को लेकर भारत और ब्रिटेन के बीच मतभेद खुलकर सामने आए. ट्रस की मौजूदगी में भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि रूस पर प्रतिबंधों की बात करना “एक अभियान जैसा” लगता है, जबकि सत्य यह है कि यूरोप रूस से युद्ध के पहले की तुलना में ज्यादा तेल खरीद रहा है और भारत अपनी जरूरत का मात्र 2 फीसदी तेल ही रूस से खरीदता है.

ब्रिटेन की विदेशमंत्री लिज़ ट्रस और भारत के विदेशमंत्री एस. जयशंकर के बीच हुई बातचीत में जयशंकर ने रूस युद्ध पर दो-टूक में रखी अपनी बात

रूस-यूक्रेन युद्ध के बीच भारत ने रूस से 1.6 करोड़ बैरल तेल खरीदा

आपको बता दें कि रूस-यूक्रेन युद्ध शुरू होने के बाद भारत ने रूस से 1.6 करोड़ बैरल तेल खरीदा है, जो कि पिछले साल के मुकाबले में 1.3 करोड़ बैरल तेल से ज्यादा ख़रीदा है.

युद्ध के बाद अमेरिका की सलाह

इसी दौरान अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा उप सलाहकार दलीप सिंह भी भारत में हैं. रूस पर प्रतिबंधों की रूपरेखा तय करने में अहम भूमिका निभाने वाले रूप सिंह ने कहा कि जो देश प्रतिबंधों के दायरे से बाहर जाने की कोशिश करेंगे उन्हें गंभीर नतीजे भुगतने पड़ेंगे.

News
More stories
Delhi में बदल गए हैं ट्रैफिक रूल्स, जानिए कब लग सकता है दस हजार का जुर्माना!