Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

भारत मना रहा 23वां कारगिल दिवस, गद गद हो उठे देशवासी, जानिए कैसे हिन्दुस्तानी जवानों ने पाक सेना को चटाई धुल

26 Jul, 2022
Head office
Share on :
kargil vijay diwas 2022

भारत और पाकिस्तान के बीच 1999 में हुए कारगिल वार में भारत ने जीत हासिल की थी. तब से हर वर्ष हम 26 जुलाई को पुरे गर्व व उत्साह के साथ कारगिल विजय दिवस मनाते है और उन सभी वीर जवानों को याद कर श्रद्धांजलि देते हैं जो देश के लिए शहीद हुए. 26 जुलाई 2022 को हम कारगिल दिवस की 23वीं वर्षगांठ मना रहे हैं. जानिए कैसे शहीद जवानों ने पाकिस्तान पर विजय हासिल कर हमें अपनी ज़मीन वापस दिलाई और इतिहास रचा.

KARGIL VIJAY DIWAS 2022: आज से ठीक 23 साल पहले 1999 में हुए कारगिल युद्ध में भारत ने पाकिस्तान को मुहतोड़ जबाव दिया और इतिहास के पन्नो में यह दिन यादगार बना दिया. भारत के जवानों ने पाकिस्तानी सैनिकों को धूल चटाई और करगिल की चोटियों पर देश का तिरंगा लहराया. हर एक भारतीय को गर्वंगित और उत्साहित कर देने वाले कारगिल दिवस की 23वीं वर्षगांठ मना रहे हैं. देश के सपूतों को शत शत नमन करते हुए देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट कर देशवासियों को कारगिल दिवस बधाई दी है.

कारगिल दिवस का इतिहास

साल 1999 में कारगिल युद्ध में देश के जवानों ने पाकिस्तान को धूल चटा दी और इतिहास के पन्नो में इस दिन को बेहद यादगार बना दिया. भारत-पाकिस्तान के बीच हुए कारगिल युद्ध का कोड नाम ऑपरेशन विजय रखा गया था. यह युद्ध लगभग 60 दिनों से ज्यादा चला था और 26 जुलाई 1999 को भारत ने कारगिल युद्ध में जीत अपने नाम की. 26 जुलाई के दिन भारतीय सेना ने पाकिस्तान द्वारा कब्जाई गई चौकियों पर तिरंगा फहराया था. मरने वालों की संख्या बहुत ज्यादा थी क्योंकि युद्ध ने भारतीय पक्ष में 527 लोगों की जान ले ली थी. कैप्टन विक्रम बत्रा उन वीर जवानों में से एक हैं, उनके जीवन और योगदान पर शेरशाह नाम की एक फिल्म भी बनाई गई.

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने वीर जवानो को दी श्रद्धांजलि

देश की नई राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने कारगिल विजय दिवस पर शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की और कारगिल विजय दिवस को वीर जवानों की वीरता, पराक्रम और दृढ़ संकल्प का प्रतीक बताया है.

“साहसी सपूतों को मेरा शत शत नमन”: पीएम मोदी

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कारगिल विजय दिवस पर देश को शुभकामनाएं औ वीर सपूतों को श्रधांजलि दी. उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि “कारगिल विजय दिवस मां भारती की आन-बान और शान का प्रतीक है. इस अवसर पर मातृभूमि की रक्षा में पराक्रम की पराकाष्ठा करने वाले देश के सभी साहसी सपूतों को मेरा शत-शत नमन.”

सेना प्रमुखों ने शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित की

बता दें कि देश के तीनों सेना प्रमुखों ने शहीद हुए वीरों को यद् करते हुए श्रद्धांजलि दी. रिपोर्ट्स के मुताबिक वहां मौजूद सेना प्रमुखों जिसमे थल सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे, नौसेना प्रमुख एडमिरल हरि कुमार और वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी ने इस अवसर पर दिल्ली में राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित की.

Edited By – Deshhit News

News
More stories
Sawan Shivratri 2022: सावन की शिवरात्रि आज, जानें शुभ मुहूर्त और चारों पहर की पूजन विधि