Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

हनुमान जयंती 2022:आज है हनुमान जयंती , कैसे करें हनुमान जयंती व्रत,पूजा विधि और व्रत कथा…

16 Apr, 2022
Head office
Share on :

हनुमान जयंती 2022 : धर्म ग्रंथों के अनुसार, हर साल चैत्र मास की पूर्णिमा पर हनुमान जन्मोत्सव मनाया जाता है। इस बार ये तिथि 16 अप्रैल, शनिवार यानी आज है। पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान श्रीहनुमान अष्ट चिरंजीवियों में से एक हैं। यानी वे आज भी जीवित हैं।इस दिन हनुमान भक्त पूरी श्रद्धा और भक्ति के साथ हनुमान जी की पूजा आराधना और उपवास रखते हैं। इस वर्ष हनुमान जयंती आज मनाई जाएगी। कहा जाता है कि हनुमान जयंती के दिन हनुमान जी की विधि विधान से पूजा अर्चना करने से भक्तों को सभी कष्टों से मुक्ति मिलती है।
हनुमान जयंती के दिन सच्चे मन से पूजा अर्चना करने से उनकी कृपा अपने भक्तों पर ज़रूर बरसती है। इसके अलावा हनुमान जयंती पर हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए प्रभु राम की भी विधिवत आराधना करनी चाहिए। ऐसा करने से सभी तरह के कष्टों और भय से मुक्ति मिलती है। इसके अलावा व्यक्ति के लंबे वक्त से रुके काम भी पूरे हो जाते हैं।

हनुमानजी की व्रत की पूजा विधि :


16 अप्रैल, शनिवार की सुबह स्नान आदि करने के बाद साफ स्थान पर हनुमानजी की प्रतिमा या चित्र इस प्रकार स्थापित करें की आपका मुंह पूर्व दिशा की ओर हो। कंबल या सूती आसान पर बैठकर हाथ में चावल व फूल लें और इस मंत्र से हनुमानजी का ध्यान करें-
अतुलितबलधामं हेमशैलाभदेहं
दनुजवनकृशानुं ज्ञानिनामग्रगण्यं।
सकलगुणनिधानं वानराणामधीशं
रघुपतिप्रियभक्तं वातजातं नमामि।।
ऊँ हनुमते नम: ध्यानार्थे पुष्पाणि सर्मपयामि।।

इसके बाद चावल व फूल हनुमानजी को अर्पित कर दें। अब नीचे लिखे मंत्र से हनुमानजी को आसन अर्पित करें-
तप्तकांचनवर्णाभं मुक्तामणिविराजितम्।
अमलं कमलं दिव्यमासनं प्रतिगृह्यताम्।।

इसके बाद हनुमानजी की मूर्ति को गंगाजल से अथवा शुद्ध जल से स्नान करवाएं और पंचामृत (घी, शहद, शक्कर, दूध व दही ) से स्नान करवाएं। पुन: एक बार शुद्ध जल से स्नान करवाएं। अब ये मंत्र बोलकर हनुमानजी को वस्त्र (पूजा का धागा) अर्पित करें-शीतवातोष्णसंत्राणं लज्जाया रक्षणं परम्।
देहालकरणं वस्त्रमत: शांति प्रयच्छ मे।।
ऊँ हनुमते नम:, वस्त्रोपवस्त्रं समर्पयामि।

इसके बाद हनुमानजी को गंध, सिंदूर, कुंकुम, चावल, फूल व हार अर्पित करें। इसके बाद केले के पत्ते पर या पान के पत्ते के ऊपर प्रसाद रखें और हनुमानजी को अर्पित कर दें, ऋतुफल अर्पित करें। (प्रसाद में चूरमा, चने या गुड़ चढ़ाना उत्तम रहता है।) अब लौंग-इलाइचीयुक्त पान चढ़ाएं।
पूजा का पूर्ण फल प्राप्त करने के लिए इस मंत्र को बोलते हुए हनुमानजी को दक्षिणा अर्पित करें-
ऊँ हिरण्यगर्भगर्भस्थं देवबीजं विभावसों:।
अनन्तपुण्यफलदमत: शांति प्रयच्छ मे।।
ऊँ हनुमते नम:, पूजा साफल्यार्थं द्रव्य दक्षिणां समर्पयामि।।

अंत में एक थाली में कर्पूर एवं घी का दीपक जलाकर हनुमानजी की आरती करें। इस प्रकार पूजा करने से हनुमानजी अति प्रसन्न होते हैं तथा साधक की हर मनोकामना पूरी करते हैं।

हनुमान जी की आरती :
आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥
जाके बल से गिरवर काँपे। रोग-दोष जाके निकट न झाँके ॥
अंजनि पुत्र महा बलदाई। संतन के प्रभु सदा सहाई ॥
आरती कीजै हनुमान लला की ॥
दे वीरा रघुनाथ पठाए। लंका जारि सिया सुधि लाये ॥
लंका सो कोट समुद्र सी खाई। जात पवनसुत बार न लाई ॥
आरती कीजै हनुमान लला की॥
लंका जारि असुर संहारे। सियाराम जी के काज सँवारे ॥
लक्ष्मण मुर्छित पड़े सकारे। लाये संजिवन प्राण उबारे ॥
आरती कीजै हनुमान लला की ॥
पैठि पताल तोरि जमकारे। अहिरावण की भुजा उखारे ॥
बाईं भुजा असुर दल मारे। दाहिने भुजा संतजन तारे ॥
आरती कीजै हनुमान लला की ॥
सुर-नर-मुनि जन आरती उतरें। जय जय जय हनुमान उचारें ॥
कंचन थार कपूर लौ छाई। आरती करत अंजना माई ॥
आरती कीजै हनुमान लला की ॥
जो हनुमानजी की आरती गावे। बसहिं बैकुंठ परम पद पावे ॥
लंक विध्वंस किये रघुराई। तुलसीदास स्वामी कीर्ति गाई ॥
आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥

हनुमानजी  के जन्म की कथा :


शिवपुराण के अनुसार, देवताओं और दानवों को अमृत बांटते हुए भगवान विष्णु के मोहिनी रूप को देखकर लीलावश शिवजी ने कामातुर होकर अपना वीर्यपात कर दिया। सप्त ऋषियों ने उस वीर्य को कुछ पत्तों में संग्रहित कर लिया। समय आने पर सप्त ऋषियों ने भगवान शिव के वीर्य को वानरराज केसरी की पत्नी अंजनी के कान के माध्यम से गर्भ में स्थापित कर दिया, जिससे अत्यंत तेजस्वी एवं प्रबल पराक्रमी श्रीहनुमानजी उत्पन्न हुए। इसके अलावा भी हनुमानजी के जन्म से जुड़ी कथाएं अन्य पौराणिक कथाओं में बताई गई हैं।

News
More stories
आगरा में हिंदू महिला से रिश्ते को लेकर मुस्लिम युवक के घर लगाई आग