अमेरिका का वीज़ा मिलना हुआ और भी आसान, भारतियों को होगा बड़ा फायदा

30 Jan, 2024
Head office
Share on :

नई दिल्ली। अमेरिका में काम कर रहे विदेशी नागरिकों के लिए आज से एक बड़ा प्रोग्राम शुरू होने जा रहा है. अमेरिका में आज से H-1B वीजा के डोमेस्टिक रिन्युअल के लिए पायलट प्रोग्राम शुरू हो रहा है. इस प्रोग्राम की घोषणा पिछले साल दिसंबर में हुई थी. उस वक्त वीजा सर्विसेस के लिए उप सहायक मंत्री जूली स्टफट ने बताया था कि इसका सबसे ज्यादा भारतीयों को होगा, क्योंकि अमेरिका में स्किल्ड वर्कर की सबसे बड़ी संख्या भारतीयों की है.

पिछले साल जून में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका की स्टेट विजिट पर गए थे, तभी H-1B वीजा की रिन्यू प्रोसेस को आसान बनाने की प्रक्रिया पर काम चल रहा था. पीएम मोदी की यात्रा के समय ही इस प्रोग्राम की औपचारिक घोषणा भी की गई थी. आज से जो वीजा रिन्युअल का पायलट प्रोग्राम शुरू हो रहा है, वो तीन महीने तक चलेगा. इस दौरान 20 हजार लोगों का वीजा रिन्यू किया जाएगा.

अमेरिका स्थित भारत के कॉन्सुलेट से 1 फरवरी से 30 सितंबर 2021 और कनाडा के कॉन्सुलेट से 1 जनवरी 2020 से 1 अप्रैल 2023 के बीच जिन लोगों को H-1B वीजा जारी किया गया था, उनका ही वीजा रिन्यू होगा. ऐसे विदेशी नागरिकों से नॉन-इमिग्रेंट वीजा इशुएंस फी भी नहीं ली जाएगी. इसके अलावा जिन लोगों ने पहले वीजा एप्लीकेशन के दौरान अगर अपने दसों फिंगरप्रिंट जमा करवाए होंगे, तो उन्हें इंटरव्यू से भी छूट मिलेगी.

अमेरिका के डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट की ओर से जारी नोटिस के मुताबिक, वीजा रिन्युअल प्रोग्राम 29 जनवरी से 1 अप्रैल तक चलेगा. इस दौरान महज 20 हजार लोगों का ही वीजा रिन्यू होगा. अगर 1 अप्रैल से पहले ही 20 हजार आवेदन आ जाते हैं तो फिर इसे बंद कर दिया जाएगा. हर हफ्ते 4 हजार लोगों का वीजा रिन्यू होगा. ऐप्लीकेंट्स 29 जनवरी, 5 फरवरी, 12 फरवरी, 19 फरवरी और 26 फरवरी को वीजा रिन्यू के लिए एप्लीकेशन दे सकते हैं. अगर पहली बार आवेदन नहीं हो पाता है तो अगले हफ्ते फिर एप्लाई किया जा सकता है.

H-1B वीजा रिन्यू करवाने के लिए ऑनलाइन एप्लाई किया जा सकता है. इसके लिए डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट की वेबसाइट पर जाना होगा.

DS-160 बारकोड शीट के अलावा अमेरिका की वैध यात्रा के लिए जारी पासपोर्ट की कॉपी लगेगी. एप्लाई करने की तारीख से कम से कम 6 महीने तक इसकी वैलिडिटी होनी जरूरी है. पासपोर्ट में वीजा फॉइल प्लेसमेंट के लिए कम से कम दो पेज खाली होने चाहिए.

DS-160 फॉर्म भर जाने के बाद 205 डॉलर की फीस लगेगी. ये न तो रिफंड होगी और न ही ट्रांसफर होगी. ये फीस ऑनलाइन पोर्टल से ही भरी जाएगी.

इन सबके अलावा एक फोटो, I-797 और I-94 फॉर्म की कॉपी के साथ-साथ अमेरिका आने और जाने का रिकॉर्ड भी देना होगा.

News
More stories
पंजाब बोर्ड ने कक्षा 10वीं और 12वीं के प्रैक्टिकल एग्जाम की डेटशीट किया जारी जानें इस खबर में
%d bloggers like this: