Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

आठ साल बाद ख़त्म हुआ भारत के मंगलयान से संपर्क, ISRO के सूत्रों से मिली जानकारी बैट्री और ईंधन ख़त्म

03 Oct, 2022
Employee
Share on :
mangalyaan runs out of fuel

24 सितंबर 2014 को मंगल पर पहुंचने के साथ ही भारत विश्व में अपने प्रथम प्रयास में ही सफल होने वाला पहला देश तथा सोवियत रूस, नासा और यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के बाद दुनिया का चौथा देश बन गया था।

नई दिल्ली: 5 नवम्बर 2013 को प्रक्षेपण और 24 सितंबर 2014 को मंगल की कक्षा में प्रवेश करने के बाद लगभग आठ साल बाद भारत के ऐतिहासिक मार्स ऑर्बिटर मिशन (एमओएम) यानी मंगलयान की बैट्री और ईंधन खत्म हो गया है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के सूत्रों इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मंगलयान से संपर्क खत्म हो गया है। हालांकि, इसरो ने इस बारे में अभी कोई आधिकारिक बयान नहीं जारी किया है। 

सूत्रों के अनुसार, इसरो मंगलयान की कक्षा में सुधार के जरिए उसकी बैटरी की जिंदगी बढ़ाने की कोशिश कर रहा था। यह इसलिए भी जरूरी था कि लंबे ग्रहण के दौरान भी मंगलयान को ऊर्जा मिलती रहे, लेकिन हाल में कई ग्रहण के बाद कक्षा में सुधार नहीं हो पाया जिसके कारण यह निस्तेज हो गया, क्योंकि लंबे ग्रहण के दौरान बैटरी इसका साथ छोड़ सकती थी। उन्होंने बताया कि चूंकि उपग्रह बैटरी को केवल एक घंटे और 40 मिनट की ग्रहण अवधि के हिसाब से डिज़ाइन किया गया था, इसलिए लंबा ग्रहण लग जाने से बैटरी लगभग समाप्त हो गई। इसरो के अधिकारियों के मुताबिक, मार्स ऑर्बिटर यान को छह महीने की क्षमता के अनुरूप बनाया गया था।

भारत का प्रथम मंगल अभियान

Mangalyaan 2013

मंगलयान (मार्स ऑर्बिटर मिशन), भारत का प्रथम मंगल अभियान है और यह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की एक महत्वाकांक्षी अन्तरिक्ष परियोजना है। इस परियोजना के अन्तर्गत साढ़े चार सौ करोड़ रुपये की लागत वाला ‘मार्स ऑर्बिटर मिशन’ (MOM) 5 नवम्बर 2013 को 2 बजकर 38 मिनट पर छोड़ा गया था। मंगल ग्रह की परिक्रमा करने हेतु छोड़ा गया उपग्रह आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसऍलवी) सी-25 के द्वारा सफलतापूर्वक छोड़ा गया था। इसके साथ ही भारत भी अब उन देशों में शामिल हो गया, जिन्होंने मंगल पर अपने यान भेजे हैं।

Mangalyaan Mission

24 सितंबर 2014 को मंगल पर पहुंचने के साथ ही भारत विश्व में अपने प्रथम प्रयास में ही सफल होने वाला पहला देश तथा सोवियत रूस, नासा और यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के बाद दुनिया का चौथा देश बन गया था। इसके अतिरिक्त ये मंगल पर भेजा गया सबसे सस्ता मिशन भी था। भारत एशिया का भी ऐसा करने वाला प्रथम पहला देश बन गया था, क्योंकि इससे पहले चीन और जापान अपने मंगल अभियान में असफल रहे थे। प्रतिष्ठित ‘टाइम’ पत्रिका ने मंगलयान को 2014 के सर्वश्रेष्ठ आविष्कारों में शामिल किया था।

मंगलयान के बारे में मौजूदा सभी जानकारी – कब क्या हुआ 

Mangalyaan Mission
  • मिशन की शुरुआत 5 नवंबर 2013 को हुई जब श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से रॉकेट ने उड़ान भरी और 44 मिनट बाद रॉकेट से अलग हो कर उपग्रह पृथ्वी की कक्षा में आ गया। 
  • 7 नवंबर 2013 को मंगलयान की कक्षा बढ़ाने की पहली कोशिश सफल रही।
  • 8 नवंबर 2013 को मंगलयान की कक्षा बढ़ाने की दूसरी कोशिश सफल रही।
  • 9 नवंबर 2013 को मंगलयान की एक और कक्षा सफलतापूर्वक बढ़ाई गई।
  • 11 नवंबर 2013मंगलयान की कक्षा बढ़ाने की चौथी सफल कोशिश।
  • 12 नवंबर 2013 मंगलयान की कक्षा बढ़ाने की पांचवीं कोशिश सफल रही।
  • 16 नवंबर 2013 मंगलयान को आखिरी बार कक्षा बढ़ाई गई।
  • 1 दिसंबर 2013 को मंगलयान ने सफलतापूर्वक पृथ्वी की कक्षा छोड़ दी और मंगल की तरफ बढ़ चला।
  • 4 दिसंबर 2013 को मंगलयान पृथ्वी के 9.25 लाख किलोमीटर घेरे के प्रभावक्षेत्र से बाहर निकल गया।
  • 11 दिसंबर 2013को अंतरिक्षयान में पहले सुधार किए गए।
  • 22 सितंबर 2014 को मंगलयान अपने अंतिम चरण में पहुंच गया. मंगलयान ने मंगल के गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र में प्रवेश कर लिया।
  • 24 सितंबर 2014 को मंगल की कक्षा में प्रवेश करने के साथ ही मंगलयान भारत के लिए ऐतिहासिक पल लेकर आया। इसके साथ ही भारत पहली ही बार में मंगल मिशन में सफलता हासिल करने वाला दुनिया का पहला देश बन गया।

भारत बना विश्व का चौथा देश

Mangalyaan in Mars

अमेरिका, रूस और यूरोपीय संघ के बाद भारत ऐसा मिशन भेजने वाला चौथा और एशिया का पहला देश बना था। पहली बार में सफलता तो केवल भारत को मिली। पिछले महीने ही मंगलयान ने आठ साल पूरे किए थे।इसरो के अनुसार, इसने कई उपलब्धियां हासिल कीं। मिशन का उद्देश्य तकनीकी था। इसमें मिशन डिजाइन, मंगल की परिक्रमा करने की क्षमता युक्त यान तैयार करना व भेजना, मंगल की कक्षा में प्रवेश और परिक्रमा शामिल था।

बेहद किफायती होने से यह मिशन सराहा गया। अंतरिक्ष पर बनीं कई हॉलीवुड फिल्मों का बजट इससे ज्यादा था तो अमेरिका में इस तरह के मिशन पर 10 से 15 गुना तक ज्यादा खर्च आने की बात कही गई। आज भी इससे सस्ता मिशन कोई नहीं भेज सका है।

Mangalyaan Mission
  • इसके जरिये वैज्ञानिकों ने 2015 में मंगल ग्रह सोलर कोरोना का अध्ययन किया। सूर्य की कई बातें समझने में मदद मिली।
  • 28 सितंबर, 2014 को यान ने मंगल की पहली पूर्ण तस्वीर भेजी। एक साल पूरे होने पर इसरो ने मार्स का 120 पृष्ठों का एटलस जारी किया। 2019 तक यह 2 टीबी का डाटा भेजा था।
  • 1 जुलाई, 2020 को उसने मंगल के चंद्रमा फोबोस की तस्वीर भेजी जो करीब 4.2 हजार किमी दूर से ली गई थी।
  • 24 मार्च, 2015 को अपने जीवन काल के छह महीने पूरे किए तो इसरो ने कहा था यह छह महीने और काम करेगा पर इसने आठ साल पूरे कर इस मिशन को बेहद सफल बनाया।

Edited by Deshhit News

News
More stories
IAF LC Helicopter: एयरफोर्स की बढ़ी ताकत, सेना में शामिल हुआ मेड इन इंडिया लाइट कॉम्बैट हेलिकॉप्टर