Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

इंडोनेशिया के नोट पर गणेशजी की तस्वीर क्यों लगाई गई ? और कितने देशों में चलते हैं देवी-देवताओं वाले नोट-सिक्के

27 Oct, 2022
Employee
Share on :
विदेशों की मुद्रा पर देवी-देवताओं की तस्वीर

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सुस्त अर्थव्यवस्था और रुपये की कीमत में गिरावट को रोकने के लिए भारतीय नोट पर लक्ष्मी-गणेश की तस्वीर लगाने का सुझाव दिया है। उन्होंने इंडोनेशिया के नोट पर गणेश भगवान की तस्वीर होने का ज़िक्र किया।

नई दिल्ली: इंडोनेशिया के इसी नोट का जिक्र अरविंद केजरीवाल ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में किया है। इंडोनेशिया की सरकार ने  इस नोट को 1998 में जारी किया था। लम्बे वक्त तक चलन में रहने के बाद अब ये नोट नहीं चलते हैं।

इंडोनेशियाई नोट पर गणेशजी की तस्वीर

इंडोनेशियाई नोट पर क्यों लगी गणेशजी की तस्वीर ? ये है मुख्य वजह  

इस नोट को बारीकी से देखने पर पता चलता है कि नोट पर गणेशजी और एक शख़्स की तस्वीर लगी है। साथ ही कुछ कुछ बच्चों को पढ़ाई करते हुए दिखाया गया है।

इस नोट पर गणेशजी की तस्वीर इंडोनेशिया की सांस्कृतिक विरासत को दर्शाती है। इंडोनेशिया में गणपति को शिक्षा, कला और बुद्धिमता का ईश्वर माना जाता है। ऐस में स्कूलों-कॉलेज में गणपति की तस्वीरें लगाई जाती हैं। भारत में सरस्वती देवी को शिक्षा और कला की देवी माना जाता है।

क्या संदेश देती है नोट पर लगी गणेशजी की तस्वीर ?

इंडोनेशिया में गणेशजी की तस्वीर धर्म के बजाय समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को अहमियत देते हुए लगाई गई है। इंडोनेशिया में हिंदू मात्र 2 फीसदी हैं लेकिन हिंदू धर्म के मानने वाले लोग इंडोनेशिया में सभी जगह पाए जाते है। इंडोनेशिया में इस मामले को अल्पसंख्यक या बहुसंख्यक की नज़र से नहीं देखा जाता है।

थाईलैंड में भी जारी हुआ था ब्रह्मा-विष्‍णु-महेश की तस्‍वीर वाला सिक्का

थाईलैंड में भी जारी हुआ था ब्रह्मा-विष्‍णु-महेश की तस्‍वीर वाला सिक्का

थाईलैंड में राष्ट्रीय आर्थिक-सामाजिक विकास बोर्ड ने 60वें फाउंडेशन डे पर एक सिक्का जारी किया था। इस सिक्के में ब्रह्मा-विष्णु-महेश की तस्वीर थी। सिक्‍के पर त्रिमूर्ति की तस्‍वीर साफ देखी जा सकती है।

अमेरिका में भी जारी हुई राजा राम मुद्रा

अमेरिका में वर्ष 2001 में महर्षि महेश योगी से संबंधित एक एनजीओ ‘द ग्‍लोबल कंट्री ऑफ वर्ल्‍ड पीस’ ने अपने स्तर पर राजा राम मुद्रा लॉन्‍च की। इसे आश्रम के अंदर लेन-देन के लिए इस्तेमाल किया जाता था। 1 राम मुद्रा का मूल्य करीब 10 डॉलर तय किया गया था जबकि यूरोप में 1 राम मुद्रा का मूल्य 10 यूरो तय हुआ।

द ग्‍लोबल कंट्री ऑफ वर्ल्‍ड पीस

नीदरलैंड में भी चलती थी राम मुद्रा

वर्ष 2003 में नीदरलैंड की करीब 100 दुकानों, 30 गांवों और पास के कस्बों में भी राम मुद्रा का चलन चला लेकिन नीदरलैंड की सरकार ने इसे स्वीकार नहीं किया। ये एक लोकल करेंसी की तरह कुछ जगहों पर चली। अमेरिका और नीदरलैंड के बैंकों ने इसे मान्यता नहीं दी।

Edited By Deshhit News

News
More stories
कांग्रेस पार्टी में हरीश रावत का जादू बरकरार,खड़गे की संचालन समिति में शामिल हुए