Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

अमेरिकी के विदेश मंत्री ने भारत के मानवाधिकार पर उठाए सवाल, तो विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा ‘देश बोलने से पीछे नहीं हटेगा’

14 Apr, 2022
Sachin
Share on :

ब्लिंकन ने सोमवार को द्विपक्षीय वार्ता के बाद संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि हम भारत में कुछ हालिया घटनाक्रमों की निगरानी कर रहे हैं, जिनमें कुछ सरकारों, पुलिस और जेल अधिकारियों की ओर से मानवाधिकार हनन में बढ़ोतरी देखी जा रही है.

नई दिल्ली: हाली में हुई मानावाधिकार आयोग की बैठक में, रूस को यूक्रेन हमले के कारण बाहर निकाल दिया था, जिसमें भारत ने वोटिंग में हिस्सा नहीं लिया था और अमेरिका की तरफ से ये कहा जाने लगा की भारत आज किस ओर खड़ा है वह मानवता की ओर है या जो लोगों को बर्बरता से मार रहा है उसकी तरफ. अमेरिका के जवाब में भारत ने कहा था कि हम चाहते हैं इस युद्ध का समाधान बातचीत और शांतिपूर्वक तरीके से हो.

पीएम मोदी ने अमेरिका के राष्ट्रपति से की वर्चुअल द्विपक्षीय वार्ता

और यह भी पढ़ें-पीएम मोदी ने दी बधाई, तो पाकिस्तान के पीएम शहबाज बोले धन्यवाद, हम भारत से अच्छे संबध चाहते हैं शांतिपूर्वक से हो बातचीत

एक दिन पहले ही भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय वार्ता हुई थी जिसमें भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि हमने हरसंभव कोशिश की है कि इसका समधान शान्ति से हो और हमने यूक्रेन में मानवीय सुविधाएं भी दी है. इसी को लेकर भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बुधवार को कहा कि इस सप्ताह भारत और अमेरिका के बीच हुई टू प्लस टू मंत्रीस्तरीय बैठक के दौरान मानवाधिकार के मुद्दे पर चर्चा नहीं हुई. उन्होंने कहा कि जब भी इस पर चर्चा होगी तो नई दिल्ली बोलने से पीछे नहीं हटेगी. यहां अपनी यात्रा के समापन पर जयशंकर ने कहा, “इस बैठक में हमने मानवाधिकार के मुद्दे पर चर्चा नहीं की. यह बैठक मुख्य रूप से राजनीतिक-सैन्य मामलों पर केंद्रित थी.

भारत के विदेशमंत्री एस. जयशंकर ने अमेरिका के विदेशमंत्री ब्लिकन से की मुलाक़ात

भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर वाशिंगटन में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के साथ भारत-अमेरिका टू प्लस टू मंत्रिस्तरीय वार्ता में हिस्सा लेने के लिए आए थे. संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा था कि अमेरिका भारत में हो रहे कुछ हालिया चिंताजनक घटनाक्रम पर नजर बनाए है जिनमें कुछ सरकारी, पुलिस और जेल अधिकारियों की मानवाधिकार उल्लंघन की बढ़ती हुई घटनाएं सामने आ रही हैं.

भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर वाशिंगटन में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के साथ भारत-अमेरिका टू प्लस टू मंत्रिस्तरीय वार्ता में हिस्सा लेने के लिए गए.

ब्लिंकन के इस बयान के बाद एस. जयशंकर ने कहा कि भारत भी अमेरिका सहित अन्य लोगों के मानवाधिकारों की स्थिति पर अपने विचार रखता है. वह भारतीय समुदाय से संबंधित मामलों को भी उठाता है. लोगों को हमारे बारे में विचार रखने का अधिकार है तो हम भी उनके नजरिये और हितों के बारे में समान रूप से विचार रखने के हकदार हैं जिन्‍हें लॉबी और वोट बैंक से हवा मिलती है.  

अमेरिका के विदेशमंत्री ब्लिकन का बयान

ब्लिंकन ने सोमवार को द्विपक्षीय वार्ता के बाद संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि भारत और अमेरिका हमेशा मानवाधिकारों की रक्षा और लोकतांत्रिक मूल्यों के प्रति प्रतिबद्धता साझा करते हैं. उन्होंने आगे कहा कि हम इन साझा मूल्यों पर अपने भारतीय भागीदारों के साथ नियमित रूप से जुड़ते हैं. इसके लिए हम भारत में कुछ हालिया घटनाक्रमों की निगरानी कर रहे हैं, जिनमें कुछ सरकारों, पुलिस और जेल अधिकारियों की ओर से मानवाधिकार हनन में बढ़ोतरी देखि जा रही है.

News
More stories
ग्राम प्रधान ने साइकिल पर वोट के लिए कहा पर दिया भाजपा को वोट, CM जनता दरबार के लिए लखनऊ आए युवक को नसीब हुई मौत