Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

UP: इंटरमीडिएट इंग्लिश पेपर लीक मामले के मास्टरमाइंंड की हुई पहचान, छात्रों को पास करवाने का लिया था ठेका

02 Apr, 2022
Employee
Share on :
up exam leak victim arrested

उत्तर प्रदेश के 75 जिलों में बुधवार को दूसरी पाली में बारहवीं की बोर्ड परीक्षा में अंग्रेजी विषय का पेपर था. दोपहर उस समय हड़कंप मच गया जब पता चला कि पेपर लीक हो गया है. बाद में परीक्षा को रद्द कर दिया गया था.

नई दिल्ली: यूपी बोर्ड के इंटरमीडिएट इंग्लिश पेपर लीक मामले में मास्टरमाइंड के नाम सामने आए हैं. बताया जा रहा है कि इस मामले के मास्टरमाइंड भीमपुरा के रहने वाले आनंद नारायण चौहान उर्फ मुलायम चौहान और मनीष चौहान हैं. आनंद चौहान और मनीष चौहान के ही स्कूल से टैंपर प्रूफ पैकेट से निकाला था. आनंद को स्कूल का मैनेजर और मनीष चौहान को प्रिंसिपल बताया जा रहा है. उन पर छात्रों को पास करवाने का ठेका लेने का भी आरोप है.

बता दें कि उत्तर प्रदेश के 75 जिलों में बुधवार को दूसरी पाली में बारहवीं की बोर्ड परीक्षा में अंग्रेजी विषय का पेपर था. दोपहर उस समय हड़कंप मच गया जब पता चला कि पेपर लीक हो गया है. बाद में परीक्षा को रद्द कर दिया गया. 

शुरुआती जांच में पता चला कि पेपर की सीरीज 316 ED और 316 EI का पेपर बलिया से लीक हुआ और इस सीरीज के पेपर उत्तर प्रदेश के 24 जिलों में भेजे गए थे. विभाग की अपर मुख्य सचिव आराधना शुक्ला ने इन 24 जिलों में परीक्षा को रद्द कर  जांच के आदेश दिए. आराधना शुक्ला से जब सवाल किया गया तो उन्होंने साफ कहा कि पेपर मजबूती से सीलबंद लिफाफे में था कोई जानकार ही इसको लीक कर सकता है.

इस घटना के बाद डीआईओएस बलिया को सस्पेंड कर दिया गया था. इस मामले में बलिया के डीआईओएस और स्थानीय पत्रकार समेत 22 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है. करीब डेढ़ दर्जन लोग बलिया पुलिस और यूपी एसटीएफ की हिरासत में हैं, जिनसे पूछताछ की जा रही है. उनके मोबाइल खंगाले जा रहे हैं. बाद में बलिया बलिया के जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने शासन को अपनी रिपोर्ट भेजी, जिसमें बताया गया कि सभी एग्जाम सेंटर पर पेपर non tearable packet में सुरक्षित मिले .

News
More stories
CM Pushkar Singh Dhami ने पत्नी संग की मां पूर्णागिरी मंदिर में पूजा अर्चना