Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

सपा नेता आजम खान को मिली जमानत, लेकिन अभी जेल से नहीं आ सकते, जानिए क्यों…?

10 May, 2022
Sachin
Share on :

आजम खान के खिलाफ वर्ष 2019 से अब तक 90 मामले दर्ज हुए हैं, इनमें से 88 मामलों में जमानत मिल चुकी है. इन मामलों में से एक मुकदमा पिछले सप्ताह ही दर्ज हुआ है.

नई दिल्ली: सपा के कद्दावर नेता व पूर्व मंत्री आजम खान को इलाहबाद हाईकोर्ट से बड़ी राहत मिली है. आज इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जमानत दे दी है. वक्फ बोर्ड की जमीन के मामले की सुनवाई करने के बाद पांच मई को कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया था. हालांकि आजम के जेल से बाहर आने पर अभी संशय बरकरार है. क्योंकि तीन दिन पहले ही आजम खां के खिलाफ स्कूलों की मान्यता से संबंधित एक मामले में जेल में मामला दर्ज किया गया है. कोर्ट ने बीती पांच मई को आजम खान की ओर से एडवोकेट इमरान उल्लाह और सरकार की ओर से अपर महाधिवक्ता एमसी चतुर्वेदी की तीन घंटे तक बहस सुनने के बाद जमानत पर निर्णय सुरक्षित लिया गया था.

आजम खान को इलाहबाद हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत

और यह भी पढ़ें- शाहीन बाग के बाद न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी और मंगोलपुरी में भी गरजा बुलडोजर, हटाए गए ठेले और तंबू

जमानत मिली लेकिन जेल यात्रा जारी

बीते महीने सरकार ने मामले के संदर्भ में कुछ नए तथ्य पेश करने के लिए प्रार्थना पत्र दिया था, जिसके बाद ही जमानत पर पांच मई को फिर से सुनवाई की गई थी. माना जा रहा है कि आजम खान के खिलाफ वर्ष 2019 से अब तक 90 मामले दर्ज हुए हैं, इनमें से 88 मामलों में जमानत मिल चुकी है. इन मामलों में से एक मुकदमा पिछले सप्ताह ही दर्ज हुआ है. उस मामले को जेल में तामिला भी करा दिया गया है. अब कहा जा रहा है कि आजम को उस मामले में भी जमानत लेनी होगी.

यूपी के रामपुर से विधायक आजम खान फरवरी 2020 से जेल में बंद है. मीडिया की खबरों के मुताबिक पिछले दिनों आजम खान की जमानत पर इलाहाबाद हाई कोर्ट में 5 महीने से आदेश लंबित होने पर सुप्रीम कोर्ट ने सख्त टिप्पणी की थी. जस्टिस एल नागेश्वर राव और बी आई गवई की बेंच ने सुनवाई को 11 मई के लिए टालते हुए कहा था कि हम हाई कोर्ट के आदेश की प्रतीक्षा करना चाहते हैं. अगर ज़रूरी पड़ा तो आदेश देंगे. अब हाई कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई से एक दिन पहले ही आजम खान को जमानत दी है.

जस्टिस एल नागेश्वर राव और जस्टिस बी आई गवई

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस नए मामले में 19 मई को रामपुर कोर्ट में सुनवाई होगी. इस मामले में उन्हें राहत मिलती है या फिर झटका, इस पर सभी की नजर टिकी हुई है. अगर ये मामला भी पिछले केसों की तरह ज्यादा लंबा खींचता है तो माना जा रहा है कि दो साल बाद भी आजम खान सीतापुर जेल से बाहर नहीं आ पाएंगे. वैसे आजम खान की जेल यात्रा बहुत लम्बी होती जा रही है, लेकिन उनके बेटे अब्दुल्ला आजम खान को इसी साल जनवरी में 23 महीने बाद सीतापुर जिला कारागार से बाहर आने का मौका मिल गया था.

आजम खान की जमानत पर राजनीति

यूपी में आजम खान की जमानत अपने आप में एक राजनीतिक मुद्दा बन चुका है. सपा के अंदर ही उनकी जमानत को लेकर बवाल देखने को मिल रहा है. आजम खान के मीडिया सलाहकार फसाहत अली ने अखिलेश यादव पर बड़ा आरोप लगा दिया है. उन्होंने दावा कर दिया है कि सपा प्रमुख नहीं चाहते कि आजम खान जेल से बाहर आएं.

News
More stories
Sedition Law: केंद्र का बड़ा फैसला, देशद्रोह कानून पर होगा पुनर्विचार, 6 साल में 548 लोगों की गिरफ्तारियां