Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

योगी सरकार 2.O के 100 दिन पूरे होने पर पुस्तिका का किया विमोचन, जानें सरकार का रिपोर्ट कार्ड

04 Jul, 2022
Sachin
Share on :

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार के दूसरे कार्यकाल में अपने 100 दिन पूरे कर लिए हैं. इस मौके पर योगी सरकार ने प्रेस कांफ्रेंस कर लखनऊ में एक पुस्तिका का विमोचन किया.

उत्तर प्रदेश: उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार के दूसरे कार्यकाल में अपने 100 दिन पूरे कर लिए हैं. इस मौके पर योगी सरकार ने प्रेस कांफ्रेंस कर लखनऊ में एक पुस्तिका का विमोचन किया. वहीं, 6 से 15 जुलाई तक निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, ब्रजेश पाठक सहित सभी मंत्री अपने-अपने विभाग की सौ दिन की उपलब्धियों के साथ आगामी कार्ययोजना प्रस्तुत किया है.

योगी सरकार 2.O के 100 दिन पूरे होने पर प्रदेश का रिपोर्ट कार्ड किया पेश

यूपी विधानसभा चुनाव के 10 मार्च को रिजल्ट जारी होने के बाद मंत्रिपरिषद को नया रूप देने में लगे समय के कारण सरकार गठन में कुछ देरी हुई, लेकिन दूसरे कार्यकाल में योगी ने दिखाया है कि उनका कोई विकल्प अभी उत्तर प्रदेश में दूर-दूर तक दिखाई नहीं देता है. हमने देखा है कि कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए कड़े फैसले लेने से सीएम योगी हिचक नहीं रहे हैं. वहीं, वर्ष 2017 के मार्च में जब पहली बार योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री की कुर्सी संभाली थी तो एक सांसद से सीधे वे देश के सबसे बड़े सूबे के सत्ता शीर्ष की कुर्सी पर बैठे थे. कई जानकारों का मानना है कि काफी हद तक उनके फैसलों में प्रशासनिक अधिकारियों का दखल साफ दिखाई देता था. लेकिन अब वह राजनीति में पके-पकाए नेता बन चुके हैं. सीएम योगी ने दूसरे कार्यकाल की शुरुआत के साथ ही सभी मंत्रियों को 100 दिनों की कार्ययोजना तैयार करने को कहा था. कार्ययोजना पर क्या कार्य हुआ इसका पूरा लेखाजोखा आज प्रस्तुत किया गया.

योगी सरकार के दूसरे कार्यकाल में उत्तर प्रदेश में विकास कार्यों के अलावा कानून व्यवस्था पर भी विशेष ध्यान दिया गया

और यह भी पढ़ें- घायल को देख राहुल गांधी ने रुकवाया काफिला, काफिले में शामिल एंबुलेंस से अस्पताल पहुंचाने में की मदद

आइये देखते हैं कौन से काम पूरे हुए

योगी सरकार ने अपने 100 दिन के लक्ष्यों का काफी हद तक पुरे करने की कोशिश की गई है इसमें सबसे प्रमुख है नगर निकायों में 280 पिंक टायलेट का निर्मााण पूरा होन, अमृत योजना के तहत पेयजल की 19 परियोजनाएं पूरी हुई, सभी 12022 वार्डों में डोर-टू-डोर कूड़ा उठाने का काम शुरू कराया गया, स्मार्ट सिटी वाले शहरों में 50 परियोजनाओं का काम तय समय अनुसार पूरा हुआ, स्मार्ट सिटी में निर्माणाधीन 75 परियोजनाओं का काम लगभग पूरा हो चुका है और पीएम स्वनिधि योजना में 84148 स्ट्रीट वेंडरों को ऋण वितरण किया जा चुका है.

शिक्षा में कई लक्ष्य पूरे, लेकिन अभी कुछ है बाकि

रोजगार, अप्रेंटिसशिप व प्लेसमेंट मेले के आयोजन लक्ष्य से अधिक प्राथमिक, माध्यमिक से लेकर उच्च, व्यावसायिक व कला, शिल्प, यंत्र शिक्षा के लिए तय किए गए इसमें से अधिकांश लक्ष्य पूरा कर लिया गया है. लेकिन अभी भी कहीं कुछ पूरे होने के करीब हैं. बताया जा रहा है कि ग्रीष्मावकाश के बाद जुलाई से शैक्षिक संस्थाएं खुलने के कारण शेष बचे कार्य रफ्तार पकड़ने लगे हैं. वहीं, माना जा रहा है कि रोजगार, अप्रेंटिसशिप व प्लेसमेंट मेलों के आयोजन लक्ष्य से अधिक हुए हैं.

इसबार प्रदेश में रोजगार, अप्रेंटिसशिप व प्लेसमेंट मेलों के आयोजन लक्ष्य से अधिक हुए हैं

लक्ष्य रखा गया दो करोड़, नामांकन हुए 1.88 करोड़

वर्तमान सत्र 2022-23 में परिषदीय स्कूलों में दो करोड़ बच्चों के नामांकन का लक्ष्य रखा गया था. लेकिन 1.88 करोड़ बच्चों का नामांकन हुआ. ग्रीष्मावकाश के बाद स्कूल खुलने के साथ ही नामांकन का काम भी तेजी से जारी है. दूसरा लक्ष्य नामांकित सभी विद्यार्थियों का शत-प्रतिशत आधार पंजीकरण कराना था. लेकिन इसके तहत अभी तक 1.66 करोड़ बच्चों का आधार पंजीकरण हो पाया है.

सीनियर अधिकारियों अपर गिरी थी गाज

योगी आदित्‍यनाथ ने दूसरे कार्यकाल की शुरुआत से ही साफ़ शब्दों में संदेश दे दिया था कि सरकारी तंत्र में भ्रष्‍टाचार, लापरवाही और जनहित की अनदेखी को बर्दाश्त बिल्कुल नहीं किया जाएगा. शुरुआत में ही डीएम सोनभद्र और एसएसपी गाजियाबाद के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई कर दी गई थी जिसके माध्यम से योगी सरकार ने बता दिया था कि अब प्रदेश में भ्रष्टाचार कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे. इसके साथ ही पहले महीने में ही दो सौ करोड़ से ज्‍यादा की अवैध सम्‍पत्ति ध्‍वस्‍त या जब्‍त की गई. इसमें 25 माफिया डीजीपी दफ्तर और आठ शासन की ओर से चिन्हित किए गए थे.

पेपर लीक पर सख्ती

परीक्षाओं में पेपर लीक पर अब योगी सरकार की ओर से सख्ती दिखाई देने लगी है. यूपी बोर्ड परीक्षा में अंग्रेजी का पेपर लीक होने पर सरकार ने सख्‍ती दिखाते हुए बलिया के डीआईओएस को तत्काल प्रभाव से सस्‍पेंड और गिरफ्तार कर लिया था. साथ ही कई अन्‍य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया था. जांच बैठा दी गई थी जिसपर अब पुलिस मामले की जांच कर रही है. तमाम बोर्ड और परीक्षा समितियों को पेपर लीक जैसे मामलों को रोकने के लिए सख्ती से कदम उठाने के निर्देश दिए गए हैं.

Edited By: Deshhit News

News
More stories
एकनाथ शिंदे ने जीता विश्वासमत, 164 विधायकों ने किया समर्थन, MVA के 5 विधायक वोटिंग से रहे बाहर