Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

धूमधाम से लोग मना रहे है देव – दिवाली का त्यौहार, सीएम योगी ने लोगों को दी बधाई

07 Nov, 2022
देशहित
Share on :

देव दिवाली पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 05 बजकर 14 मिनट से शाम 07 बजकर 49 मिनट तक होगा।

नई दिल्ली: देव दिवाली हर साल कार्तिक मास पूर्णिमा तिथि को मनाई जाती है। इसलिए आज सोमवार 7 नवंबर को बड़ी धूम-धाम से देव दिवाली मनाई जा रही हैं। सोमवार देवों के देव महादेव को अतिप्रिय है तो आज के दिन का महत्व और भी ज्यादा बढ़ जाता है। वैसे तो, देव दीपावली कार्तिक पूर्णिमा के दिन मनाई जाती है लेकिन, इस बार 8 नवंबर को चंद्र ग्रहण लगने के कारण देव दीपावली या देव दिवाली 7 नवंबर को पूर्णिमा तिथि प्रारंभ के समय ही मनाई जा रही है।

ये भी पढ़े: झारखंण्ड के सीएम हेमंत सोरेन को सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत

देव – दिवाली का शुभ मुहूर्त

Dev Diwali 2022: इस साल कब है देव दीपावली? जानें शुभ मुहूर्त और धार्मिक  महत्व - dev diwali 2022 date tithi shubh muhurat and importance of dev  deepawali kar – News18 हिंदी
File photo

पूर्ण तिथि का प्रारंभ 07 नवंबर शाम 04 बजकर 15 मिनट से शुरू होगा और 8 नवंबर शाम 04 बजकर 31 मिनट पर समाप्त को पूर्णिमा तिथि समाप्त होगी। देव दिवाली पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 05 बजकर 14 मिनट से शाम 07 बजकर 49 मिनट तक होगा।

देव दिवाली पूजा , विधि, नियम उपाय

देव दिवाली पर इस उपाय से पूरे होंगे हर सपने, बरसेगा मां लक्ष्मी का आशीर्वाद  | TV9 Bharatvarsh
File photo
  1. देव दिवाली के दिन दान-पुण्य जरूर करें। यदि पवित्र नदियों में स्नान न कर पाएं तो पवित्र नदियों के जल को पानी में मिलाकर स्नान कर लें।
  2. मिट्टी या आटे का दीया ले कर उसमें घी या तेल डाल दें। इसमें मौली की बाती बना कर लगा दें और इसके बाद इसमें 7 लौंग डालें और 11 बार ‘ऊं हीं श्रीं लक्ष्मीभयो नम:’ का जाप कर लें और इसके बाद दीया मुख्यद्वार के गेट पर पूर्व दिशा में रख दें। ध्यान रहे कि दीया जब भी रखें उसके बाद कम से कम ये चार बजे तक जरूर जले।
  3. एक आटे या मि्टटी का दीपक लें और इसमें तेल या घी कुछ भी डाल लें। इसके बाद इस दीपक में 7 लौंग डाल दें और ध्यान रहे दीपक केवल मिट्टी या आटे का ही होना चाहिए।
  4. 5 दिवसीय उत्सव देवोत्थान एकादशी से शुरू होता है और कार्तिक पूर्णिमा के दिन समाप्त होता है।
  5. कार्तिक पूर्णिमा के दिन लोग कार्तिक स्नान करते हैं, खासतौर पर भक्त पवित्र गंगा नदी में स्नान करने देश के कोने-कोने से पहुंचते हैं।
  6. इस दिन शाम को तेल से दीप जलाकर गंगा नदी में प्रवाहित किया जाता है।
  7. शाम को दशमेश्वर घाट पर भव्य गंगा आरती की होती है। इस वक्त हजारों की संख्या में श्रद्धालु उपस्थित होते हैं।
  8. गंगा आरती के दौरान भजन-कीर्तन, लयबद्ध ढोल-नगाड़ा, शंख बजाये जाते हैं।

देव दिवाली का महत्व

ॐ नम: शिवाय’, ॐ हौं जूं सः, ॐ भूर्भुवः स्वः, ॐ त्र्यम्बेकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धूनान् मृत्योवर्मुक्षीय मामृतात्, ॐ स्वः भुवः भूः, ॐ सः जूं हौं ॐ.

देव दिवाली पर दीपदान का महत्व

क्यों मनाया जाता है देव दिवाली का त्योहार? जानें पूजा का शुभ मुहूर्त - dev  diwali 2019 worship importance and puja shubh muhurt tlifd - AajTak
File Photo

देव दिवाली पर दीपदान का विशेष महत्व है और ऐसी धार्मिक मान्यता है कि इस दिन किसी पवित्र नदी में स्नान करने व दीपदान करने से व्यक्ति को पापों से मुक्ति मिलती है। घर में सुख-समृद्धि का वास होता है। जीवन में सकारात्मकता का संचार होता है और खुशहाली आती है।

देव दिवाली मनाने का इतिहास

When Is Dev Diwali 2022 Dev Diwali 2022 Date Time And Shubh Muhurat Dev  Deepawali Deep Daan Importance And Vidhi - Dev Diwali 2022: देव दीवाली पर  दीपदान का है खास महत्व,
File Photo

पौराणिक कथा के अनुसार, त्रिपुरासुर नाम के एक राक्षस ने अपने आतंक से धरतीलोक पर मानवों और स्वर्गलोक में सभी देवताओं को त्रस्त कर दिया था। सभी देवतागण त्रिपुरासुर से परेशान हो गए थे। सभी सहायता के लिए भगवान शिव के पास पहुंचे और त्रिपुरासुर का अंत करने की प्रार्थना की। कथा के अनुसार, भगवान शिव ने कार्तिक पूर्णिमा के दिन ही त्रिपुरासुर राक्षस का वध किया था। त्रिपुरासुर के अंत के बाद उसके आंतक से मुक्ति मिलने पर सभी देवतागण प्रसन्न हुए और उन्होंने स्वर्ग में दीप जलाएं। इसके बाद सभी भोलेनाथ की नगरी काशी में पधारे और काशी में भी दीप प्रज्जवलित कर देवताओं ने खुशी मनाई।

योगी आादित्यनाथ ने लोगों को देव दिवाली की शुभकामनाएं दी

Yogi adityanath News - Latest yogi adityanath News, Information & Updates -  Energy News -ET EnergyWorld
CM YOGI ADITYANATH

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी ने लोगों को देव दिवाली की बधाई देते हुए कहा कि ‘देव-दीपावली’ की समस्त प्रदेश वासियों व श्रद्धालुओं को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं! और साथ ही ये भी कहा कि बाबा विश्वनाथ की पावन धरा पर मनाया जाने वाला यह महापर्व सभी श्रद्धालुओं के जीवन को सुख-समृद्धि तथा आरोग्यता के आशीर्वाद से अभिसिंचित करे, यही कामना है।

Edit by Deshhit News

News
More stories
झारखंण्ड के सीएम हेमंत सोरेन को सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत