Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

Manipur: नोनी में भारी भूस्खलन, अबतक 7 लोगों की मौत, करीब 45 लोग लापता, राहत और बचाव कार्य जारी

30 Jun, 2022
Sachin
Share on :

भारतीय सेना और असम राइफल्स की टीम ने पूरी ऊर्जा के साथ बचाव अभियान चलाया हुआ है. भूस्खलन वाले इलाके पर उपलब्ध इंजीनियर प्लांट उपकरण को बचाव कार्यों में लगाया गया है. गुरुवार यानी 30 जून को सुबह साढ़े पांच बजे तक भूस्खलन के कारण फंसे 13 लोगों को बचाया गया है.

नई दिल्ली: मणिपुर में लगातार हो रही भारी बारिश के बीच 29 और 30 जून की मध्यरात्रि को नोनी जिले में भारी भूस्खलन हो गया. बताया जा रहा है कि जिरीबाम से राजधानी इंफाल तक निर्माणाधीन रेलवे लाइन की सुरक्षा के लिए राज्य के नोनी जिले में तुपुल रेलवे स्टेशन के पास तैनात भारतीय सेना की 107 बटालिन की सेना की कंपनी के स्थान पर भूस्खलन हुआ. मीडिया की ख़बरों के मुताबिक हादसे में लगभग 7 सैनिकों की मौत हुई है और 45 जवान लापता हैं. सेना की ओर से बचाव कार्य जारी है. ये TA की कंपनी मणिपुर के नोनी जिले के टुपुल रेलवे स्टेशन पर, इंफाल जीरीबम के निर्माणाधीन रेलवे लाइन की सुरक्षा में तैनात थे.

अब तक 13 लोगों को बचाया गया

भारतीय सेना और असम राइफल्स की टीम ने पूरी ऊर्जा के साथ बचाव अभियान चलाया हुआ है. भूस्खलन वाले इलाके पर उपलब्ध इंजीनियर प्लांट उपकरण को बचाव कार्यों में लगाया गया है. गुरुवार यानी 30 जून को सुबह साढ़े पांच बजे तक भूस्खलन के कारण फंसे 13 लोगों को बचाया गया है. वहीं, अब तक बचाव दलों को 7 शव भी मिल चुके हैं. घायलों का इलाज नोनी आर्मी मेडिकल यूनिट में किया जा रहा है.

अब तक 13 लोगों को बचाया गया

और यह भी पढ़ें- रांची सेंट जेवियर्स कॉलेज की 66 स्टूडेंट्स से भरी बस गंगटोक में दुर्घटनाग्रस्त, 2 की हालत गंभीर

आसपास के इलाकों में तबाही का खतरा

जिला प्रशासन ने आस-पास के ग्रामीणों को सावधानी बरतने और जल्द से जल्द जगह खाली करने के लिए दिशा-निर्देश जारी किया है. दिशा-निर्देश में कहा गया है कि मलबे की वजह से इजाई नदी ब्लॉक हो गई है. जिसके कारण एक ही जगह पर जल भराव हो गया और बांध जैसी स्थिति बन गई है. अगर यह टूट गया तो निचले इलाकों में और ज्यादा तबाही मच सकती है.

जिला प्रशासन की ओर से स्थानीय लोगों को दिशा-निर्देश जारी कर दिए गये है कि वह सुरक्षित जगहों पर चले जाए

गृहमंत्री अमित शाह ने ट्विट कर बचाव कार्य को कहा…

गृहमंत्री अमित शाह ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से ट्वीट कर कहा कि, मणिपुर में टुपुल रेलवे स्टेशन के समीप भूस्खलन के बाद मुख्यमंत्री एन बिरेन सिंह और अश्विनी वैष्णव से बातचीत की. बचाव अभियान पूरे जोर-शोर से चल रहा है. एनडीआरएफ का एक दल घटनास्थल पर पहुंच गया है और बचाव अभियान में शामिल हो गया. दो और दल टुपुल के रास्ते में हैं.  

बारिश ने बढ़ाई और परेशानी

इन लापता लोगों में टेरेटोरियल आर्मी के 20 जवानों के अलावा निर्माण के काम में लगे मज़दूर और अधिकारी भी हैं. 3 स्थानीय नागरिकों के भी गायब होने की खबर है. लगातार भारी बारिश के कारण बचाव कार्य में बाधा आ रही है. स्थानीय प्रशासन ने लोगों से सुरक्षित जगहों पर रहने की अपील की है.

Edited By: Deshhit News

News
More stories
देवेन्द्र फडणवीस ने किया ऐलान अब एकनाथ शिंदे होंगे मुख्यमंत्री, 12 बागी MLA को भी मिला इनाम