Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

Lakhimpur Kheri Violence: सुप्रीम कोर्ट ने ख़ारिज की आशीष मिश्रा की जमानत, एक हफ्ते में करना होगा सरेंडर

18 Apr, 2022
Sachin
Share on :

लखीमपुर खीरी हिंसा मामले के मुख्य आरोपी केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय कुमार मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा को आज बड़ा झटका लगा है. सुप्रीम कोर्ट ने आशीष मिश्रा की जमानत खारिज कर दी है साथी ही उनको एक हफ्ते के अंदर सरेंडर करना होगा.

नई दिल्ली: लखीमपुर खीरी हिंसा मामले के मुख्य आरोपी केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय कुमार मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा को आज बड़ा झटका लगा है. सुप्रीम कोर्ट ने आशीष मिश्रा की जमानत खारिज कर दी है साथी ही उनको एक हफ्ते के अंदर सरेंडर करना होगा. लखीमपुर खीरी मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट ने चार अप्रैल को पूरी करते हुए फैसला सुरक्षित रख लिया था. आपको बता दें कि आशीष मिश्रा को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जमानत दी थी, किसानों ने इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पेटीशन दाखिल कर आशिष मिश्रा की जमानत ख़ारिज करने की मांग उठाई थी जिसको अब सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट अपने फैसले में लिखा की इलाहाबाद हाईकोर्ट ने पीड़ित पक्ष की बात ध्यानपूर्वक नहीं सुनी गई थी. कोर्ट ने फैसला सुनाने के बाद अब मामले को नए सिरे से सुनवाई के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट को वापस भेज दिया है.

लखीमपुर खीरी केस के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा की जमानत सुप्रीम कोर्ट ने ख़ारिज की

और यह भी पढ़ें- लखीमपुर खीरी हिंसा: केंद्रीय गृहराज्य मंत्री का बेटा आशीष मिश्रा गिरफ्तार, जानिए पूरी कहानी

सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के आदेश पर आपत्ति जताते हुए कहा कि लखीमपुर खीरी हिंसा मामले के आरोपी आशीष मिश्रा को जमानत देने के लिए प्राथमिकी और पोस्टमार्टम रिपोर्ट में ‘अप्रासंगिक’ विवरण पर भरोसा किया गया था. याचिकाकर्ताओं की ओर से वरिष्ठ वकील दुष्यंत दवे ने दलील दी थी कि हाईकोर्ट ने एसआईटी की रिपोर्ट के साथ-साथ चार्जशीट को नजरअंदाज कर दियाथा. उन्होंने यह कहते हुए जमानत रद्द करने की मांग की थी कि आरोप गंभीर और मामला बहुत संवेदशील हैं साथ ही गवाहों को जान का खतरा भी है.

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय कुमार मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा को आज सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका, जमानत हुई ख़ारिज

उन्होंने यह भी कहा कि हाईकोर्ट के आदेश में दिमागी कसरत का अभाव है. वहीं आशीष मिश्रा की ओर से वरिष्ठ वकील रंजीत कुमार ने हाईकोर्ट के आदेश का बचाव करते हुए कहा था कि उनका मुवक्किल घटनास्थल पर मौजूद नहीं था. उन्होंने कहा था कि अगर अदालत जमानत के लिए कोई शर्त जोड़ना चाहती है तो वह ऐसा कर सकती है.

लखीमपुर की हिंसा में 8 लोगों की हुई मौत थी

3 अक्टूबर 2021 को लखीमपुर खीरी के तिकुनिया इलाके में हुई हिंसा के दौरान 8 लोगों की मौत हो गई थी. इनमें चार किसान शामिल थे. आरोप है कि कें आशीष मिश्रा उर्फ मोनू ने अपनी जीप से किसानों को कुचल दिया था. इस मामले में उत्तर प्रदेश विशेष जांच दल (SIT) ने 5000 पेज की चार्जशीट दाखिल की थी. एसआईटी की जांच रिपोर्ट बताती है आशीष मिश्रा मुख्य आरोपी है.

3 अक्टूबर 2021 को लखीमपुर खीरी के तिकुनिया इलाके में हुई हिंसा के दौरान 8 लोगों की मौत हो गई थी
News
More stories
Loudspeaker controversy: राज ठाकरे ने दी चेतावनी तो उद्धव सरकार आई हरकत में, बिना इजाजत के नहीं लगेगा लाउडस्पीकर