Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

हाई कोर्ट के हिजाब विवाद पर फैसले के खिलाफ कर्नाटक बंद

17 Mar, 2022
Employee
Share on :
बंद के दौरान, मंगलुरु में सेंट्रल मार्केट, स्टेट बैंक, एपीएमसी मार्केट और अन्य कारोबारी इलाकें जो  आमतौर पर मछली, सब्जियों और अन्य व्यापारों से गुलजार रहते थें, गुरुवार सुबह से वीरान नजर आया। 
नई दिल्ली: कर्नाटक में मुस्लिम संगठनों ने हिजाब विवाद पर कर्नाटक उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराने के लिए गुरुवार 17 मार्च को राज्य में 'बंद' का आह्वान किया है। उच्च न्यायालय ने मंगलवार को उन सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया था, जिसमें कर्नाटक सरकार को कक्षाओं के अंदर हिजाब पहनने की अनुमति देने के निर्देश देने की मांग की गई थी। हालाँकि, अदालत ने कहा कि हिजाब पहनना इस्लाम के तहत कोई धार्मिक प्रथा नहीं है और यूनिफॉर्म एक उचित प्रतिबंध है जिस पर छात्र आपत्ति नहीं कर सकते। जिसके बाद, हिजाब पर कर्नाटक उच्च न्यायालय के फैसले के विरोध में विभिन्न मुस्लिम संगठनों द्वारा दिए गए कर्नाटक बंद को दक्षिण कन्नड़ में जबरदस्त प्रतिक्रिया मिल रही है।

इसे भी पढ़ें - Japan Earthquake: जापान से सामने आये ड़रावने मंजर, कहीं भूकंप नें मचाई तबाही तो कहीं बुलेट ट्रेन पटरी से उतरी

बता दें, कर्नाटक के अमीर-ए-शरीयत मौलाना सगीर अहमद खान रशदी ने बुधवार को राज्यव्यापी बंद का आह्वान किया, जिसे दक्षिणी राज्य के सैकड़ों संगठनों से समर्थन भी मिला। रशदी ने कहा, "हिजाब के संबंध में कर्नाटक उच्च न्यायालय के दुखद आदेश के खिलाफ अपना गुस्सा व्यक्त करते हुए, गुरुवार को राज्यव्यापी बंद रखा जाएगा।" उन्होंने पूरे मुस्लिम समुदाय से गुरुवार सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक बंद का समर्थन करने की अपील की। 
जिसके बाद, सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया और कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया ने भी बंद का समर्थन किया। दोनों संगठनों ने कहा कि उच्च न्यायालय का फैसला किसी व्यक्ति के संवैधानिक अधिकारों के खिलाफ है। वहीं, सीएफआई पदाधिकारियों ने कहा कि उच्च न्यायालय का फैसला व्यक्तिगत और धार्मिक अधिकारों के खिलाफ है इसीलिए हम बंद का समर्थन करते हैं।

बुधवार को भटकल में कई व्यापारियों ने हिजाब के फैसले के विरोध में स्वेच्छा से दुकानें बंद कर दीं. बाद में दिन में, कर्नाटक में पुलिस ने एक वकील सहित पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के कार्यकर्ताओं के खिलाफ कथित तौर पर दुकानों को बंद करने और कर्नाटक उच्च न्यायालय के फैसले जा विरोध करने के लिए प्राथमिकी दर्ज की है।

मालूम हो, कर्नाटक उच्च न्यायालय के शैक्षणिक संस्थानों में हिजाब पहनने पर प्रतिबंध को बरकरार रखने के फैसले के विरोध में मुस्लिम समूहों द्वारा गुरुवार को बंद के आह्वान के बाद बेंगलुरु में कुछ दुकानें बंद कर दी गईं। इस बीच, बंद को लेकर उडुपी में मिली-जुली प्रतिक्रिया रही। बुधवार को विपक्षी कांग्रेस ने तटस्थ रुख अपनाने का फैसला किया। हिजाब मुद्दे पर कांग्रेस के मुस्लिम नेताओं की स्थिति के बारे में कांग्रेस के एक विधायक ने कहा, "हमने धार्मिक नेताओं के साथ बैठक की और इस मुद्दे पर कानूनी लड़ाई का समर्थन करने का फैसला किया है।"
News
More stories
बड़ी खबर: अगर विदेशी वाहनों को भारत में चला रहें,तो निम्नलिखित दस्तावेज को साथ लेकर चलिए?