इंदौर में 27 फरवरी से लगेगी ‘जापानी बुखार’ की वैक्सीन

17 Feb, 2024
Head office
Share on :

इंदौर: यह अब वास्तव में नियमित टीकाकरण का हिस्सा है। आपको बता दें कि जापानी बुखार एक प्रकार का दिमागी बुखार है। जब बच्चों को यह समस्या होती है, तो वे आमतौर पर झटके से पीड़ित होते हैं। इसी प्रकार पुनरावृत्ति भी मुख्य लक्षण है। यह दर्दनाक बीमारी 30% मामलों में घातक होती है। जापानी बुखार कितना घातक है? दरअसल, रिपोर्ट बताती है कि 30% मरीज़ इस बीमारी से मर जाते हैं। जानकारी के मुताबिक, 30% मामलों में यह बीमारी पूरी तरह से ठीक नहीं होती है। इसलिए इसे गंभीर बीमारी कहा जाता है। हम आपको याद दिला दें कि यह बीमारी खासतौर पर बच्चों, बुजुर्गों और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में होती है।

इंदौर में कितने हैं? हालांकि इंदौर में अभी तक ऐसी कोई घटना सामने नहीं आई है. हालाँकि, सुरक्षा कारणों से ऐसा किया जाता है। दरअसल, इंदौर में पहले ही संक्रमित मामले सामने आ चुके हैं। जानकारी के मुताबिक ऐसा ही एक मामला आठ साल पहले इंदौर के महू में सामने आया था. क्या जापानी बुखार संक्रामक है? नहीं, यह संक्रामक नहीं है. अन्य बीमारियों की तरह यह बीमारी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलती है। हालाँकि, अप्रैल और मई के महीनों में इस बीमारी का प्रसार और प्रभाव बहुत अधिक होता है। इसलिए, इससे बचने के लिए यह कदम उठाना ज़रूरी है। बताते हैं कि इस बीमारी का चरम अक्टूबर तक माना जाता है। मैं टीका लगवाने के लिए आपसे कैसे संपर्क कर सकता हूं? यह वास्तव में महत्वपूर्ण है कि बच्चों को यह टीका मिले क्योंकि यह एक नियमित टीकाकरण है। जानकारी के मुताबिक, इसके लिए सुविधाएं अस्पतालों के भीतर तय केंद्रों के रूप में उपलब्ध हैं. इंदौर में पीसी सेठी, लाल अस्पताल, मांगीलाल चुलिया अस्पताल, मल्हारगंज अस्पताल

आदि में टीकाकरण किया जा रहा है

News
More stories
लाडली बहना योजना पर बड़ी खबर, खाते में इस दिन आएगी अगली किस्त
%d bloggers like this: