Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

Indian Bank: तीन माह से अधिक गर्भवती महिला होगी अयोग्य, शारीरिक फिटनेस को लेकर जारी किए दिशा-निर्देश

16 Jun, 2022
Sachin
Share on :

अखिल भारतीय लोकतांत्रिक महिला संघ (एआइडीडब्ल्यूए) ने 12 सप्ताह से अधिक गर्भवती महिला उम्मीदवारों की नियुक्त नहीं करने पर इंडियन बैंक को महिला विरोधी मानसिकता का कहा और साथ ही उसकी कड़ी निंदा भी की.

नई दिल्ली: इंडियन बैंक ने तीन महीने से अधिक की गर्भवती महिलाओं को बैंक में नौकरी के लिए अस्थायी रूप से अयोग्य करार दिया है. बताया जा रहा है कि उन्हें नौकरी शुरू करने से पहले पंजीकृत डॉक्टर का फिटनेस सर्टिफिकेट देना अनिवार्य होगा. नतीजतन, ऐसी महिलाओं के नौकरी में शामिल होने में देरी होगी और वह वरिष्ठता खो देंगी. अब ये मुद्दा गरमा गया है .बैंक के इस प्रतिगामी फैसले की विभिन्न संगठनों ने गंभीर आलोचना भी की है.

बैंक के दिशा-निर्देशों के मुताबिक, 12 सप्ताह या उससे अधिक की गर्भवती महिलाओं को नौकरी के लिए अस्थायी रूप से अस्वस्थ माना जाएगा. चयनित पद पर नियुक्ति के लिए डिलीवरी के छह सप्ताह बाद उम्मीदवार की फिर से जांच की जाएगी. जिसके ही बाद नौकरी पर आने की इजाजत दी जाएगी. लेकिन जब कई संगठनों ने इन दिशा निर्देशों पर जवाब माँगा तो इंडियन बैंक को भेजे गए संदेशों का कोई तत्काल जवाब नहीं दिया.

और यह भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एमआर शाह को पड़ा दिल का दौरा, हिमाचल प्रदेश से एंबुलेंस से दिल्ली लाया गया

अखिल भारतीय लोकतांत्रिक महिला संघ (एआइडीडब्ल्यूए) ने 12 सप्ताह से अधिक गर्भवती महिला उम्मीदवारों की नियुक्त नहीं करने पर इंडियन बैंक को महिला विरोधी मानसिकता का कहा और साथ ही उसकी कड़ी निंदा भी की, एआइडीडब्ल्यूए ने कहा कि यह महिलाओं के लिए अत्यधिक भेदभावपूर्ण है.

अखिल भारतीय लोकतांत्रिक महिला संघ ने इंडियन बैंक की कड़ी निंदा

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण को लिखे पत्र में, अखिल भारतीय कामकाजी महिला मंच ने इस कदम को इंडियन बैंक की प्रतिगामी व स्त्री-विरोधी धारणा बताया है. इससे पहले भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने भी ऐसा ही आदेश जारी किया था. जिसको बाद में भारी के बाद एसबीआई ने वापस ले लिया था. गौरतलब है कि तब दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने एसबीआई को नोटिस भी जारी किया था.

अखिल भारतीय लोकतांत्रिक महिला संघ ने वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण को लिखा पत्र
News
More stories
राष्ट्रपति चुनाव: बीजेपी नेता दिलीप घोष ने शरद पवार पर साधा निशाना, कहा अगर ये नेता राष्ट्रपति बना तो देश में बढ़ेगा आतंकवाद