Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

दहेज ने ली जिंदगी : एक ही परिवार की 3 बहनों ने अपने 2 बच्चों के साथ की आत्महत्या

29 May, 2022
Sachin
Share on :

पुलिस ने बताया कि दो दिन पहले दोपहर में कालू देवी (27), ममता मीणा (23), कमलेश मीणा (20) घर से गायब हो गई थीं. उनके साथ चार साल का बेटा हर्षित और करीब 27 दिन का दूसरा बच्चा भी गायब था. ये सभी 25 मई को यह कहकर निकले कि हम बाजार जा रहे हैं, लेकिन शाम तक सब नहीं लौटे तो परिवारवालो ने तलाश शुरू कर दी.

नई दिल्ली: राजस्थान में एक ही परिवार की 3 बहनों ने अपने 2 बच्चों के साथ आत्महत्या कर ली है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पता चला है कि माहिलाओं का नाम कालू मीणा, ममता और कमलेश बताया जा रहा है. तीनों की उम्र 25, 23 और 20 वर्ष थी. वहीं एक बच्चा 4 साल का था और दूसरा महज 27 दिनों का था. वहीं, मरने वाली तीन महिलाओं में से 2 गर्भवती भी बतायी जा रही है. घटना के बाद लड़कियों के परिवारवालो ने बताया है कि तीनों बहनों को ससुराल में दहेज के लिए प्रताड़ित किया जाता था और बार-बार उनको पीटा भी जाता था. जिससे तंग आकर तीनों ने आत्महत्या कर ली है.    

मृतक महिलाओं के चचेरे भाई हेमराज मीणा ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मेरी बहनों को दहेज के लिए लगातार प्रताड़ित किया जा रहा था, वे 25 मई को लापता हो गई थी, हम उन्हें खोजने के लिए दर-दर भटकते रहे थे, हमने स्थानीय पुलिस स्टेशन और महिला हेल्पलाइन में प्राथमिकी दर्ज भी करवाई थी. साथ ही राष्ट्रीय महिला आयोग में भी फरियाद की थी लेकिन हमें कहीं से भी मदद नहीं मिली. हालांकि अभी पुलिस की जांच में पता चला है कि महिलाओं ने सुसाइड नोट नहीं छोड़ा लेकिन उनके परिवार के सदस्यों ने सबसे छोटी बहन कमलेश का व्हाट्सएप स्टेटस साझा किया है जिसमें उसने कहा है “हम अभी जा रहे हैं, खुश रहें, हमारी मृत्यु का कारण हमारे ससुराल वाले हैं, हर दिन मरने से बेहतर है कि एक बार ही मर जाएं”.   

कुएं में मिले 3 बहनों और उनके दोनों बच्चों के शव

और यह भी पढ़ें- डीजीसीए ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपये का जुर्माना, दिव्यांग बच्चे को फ्लाइट में चढ़ने से रोका

2 दिन से ढुंढ रहा था परिवार

पुलिस ने बताया कि दो दिन पहले दोपहर में कालू देवी (27), ममता मीणा (23), कमलेश मीणा (20) घर से गायब हो गई थीं. उनके साथ चार साल का बेटा हर्षित और करीब 27 दिन का दूसरा बच्चा भी गायब था. ये सभी 25 मई को यह कहकर निकले कि हम बाजार जा रहे हैं, लेकिन शाम तक सब नहीं लौटे तो परिवारवालो ने तलाश शुरू कर दी, लेकिन कोई जानकारी नहीं मिल सकी.   

पूरे शहर में लगाए गए पोस्टर

इनके गायब होने के कुछ घंटे बाद से ही पुलिस और परिवार के लोग इन्हे तलाश रहे थे. पूरे शहर में फोटो भी बांटे गए थे. तलाश चल ही रही थी कि शनिवार सुबह पाचों के शव मिले. शव मिलने के बाद घटनास्थल को सील कर दिया गया है साथ ही गांव और परिवार के लोगों से पुलिस पूछताछ कर रही है. कहा यह भी जा रहा है कि इन बहनों में से एक कमलेश नाम की महिला नौ माह की गर्भवती भी थी.

पूरे शहर में लगाए गए पोस्टर

तीनों महिलाओं के पति थे अनपढ़

तीनों बहनें जीतोड़ पढ़ाई कर ज़िंदगी संवारना चाहती थी जबकि तीनों के अनपढ़ पति शराब के नशे में उन्हें मारते-पीटते थे. जानकारी के मुताबिक, जयपुर के महरानी कॉलेज में पढ़ाई कर मृतक महिला कमलेश ने सेंट्रल यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया था जबकि उनके आरोपी पति पांचवीं-छठी क्लास तक ही पढ़े हुए थे. तीनों बहनें पतियों की मारपीट से परेशान हो गई थीं. अब कुएं से पांच शव मिलने के बाद पुलिस इस बात की पड़ताल में जुटी हुई है कि उन्होंने आत्महत्या की है  या फिर उनकी हत्या की गई है. दूदू कस्बे से दो किलोमीटर दूर खेतों में झाड़ियों के बीच कुएं में पुलिसवालों को मोहल्ले से ग़ायब 27 साल की कालू, 23 साल की ममता और 20 साल की कमलेश की लाश मिली थी. कुएं में ही कालू के दो नाबालिग बच्चों के शव भी मिले थे.

News
More stories
डीजीसीए ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपये का जुर्माना, दिव्यांग बच्चे को फ्लाइट में चढ़ने से रोका