नीमल की रिहाई मांग, संयुक्त किसान मोर्चा की कल बैठक

13 Dec, 2023
Head office
Share on :

नई दिल्ली। संसद भवन पर आतंकी हमले की बरसी के दिन लोकसभा के अंदर कूदने वाले और बाहर नारेबाजी कर बवाल करने वाले चारों लोगों की पहचान हो गई है। लोकसभा की कार्यवाही के दौरान दर्शक दीर्घा से कूदने और धुआं फैलाने वाले दो लोगों की पहचान सागर शर्मा और डी. मनोरंजन के तौर पर हुई। सागर शर्मा लखनऊ का रहने वाला है। उसके पिता का नाम शंकरलाल शर्मा है। वहीं डी. देवराज कर्नाटक के मैसुरु का रहने वाला है। दोनों को सांसदों ने पकड़ लिया था और फिर सुरक्षाकर्मियों के हवाले कर दिया था। संसद के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है, जब कार्यवाही के बीच कोई बाहरी शख्स घुस आया हो और इस तरह से बवाल काट दिया।

संसद परिसर के बाहर ‘तानाशाही बंद करो’ के नारे लगाने वाली नीलम और अमोल शिंदे की भी पहचान हो गई है। 42 वर्षीय नीलम हिसार की रहने वाली है, जबकि 25 साल का अमोल शिंदे महाराष्ट्र के लातूर जिले का है। इनके बारे में अब तक पुलिस ने जो बताया है उसके मुताबि मनोरंजन ने कंप्यूटर साइंस की डिग्री मैसुरु के ही एक कॉलेज से ली है। इसके अलावा नीलम सिविल सर्विस की तैयारी कर चुकी है। नीलम के भाई का कहना है कि वह 2020 में हुए एक साल लंबे किसान आंदोलन में भी बेहद सक्रिय थी। हालांकि वह किसी राजनीतिक दल से जुड़ी हुई नहीं है।

इन चारों लोगों को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। दिल्ली पुलिस की ऐंटी-टेरर सेल इन लोगों के खिलाफ जांच कर रही है। शीर्ष अधिकारियों का कहना है कि इन लोगों से सभी चीजें बरामद कर ली गई हैं, जिनका इस्तेमाल हुआ था। इसके अलावा ये लोग कैसे अंदर तक पहुंच गए और कहां ठहरे थे, किससे मिले थे, सभी चीजों की जांच की जा रही है। फिलहाल खबर है कि ये लोग सांसद प्रताप सिम्हा के लेटर पर पास जारी करा कर आए थे। लोकसभा स्पीकर ओम बिरला का कहना है कि सदन भी इस घटना की जांच करा रहा है। दोनों के पास भी बरामद हो गए हैं। इनसे पता चलता है कि प्रताप सिम्हा के दफ्तर से जारी लेटर के आधार पर ये जारी हुए थे।

News
More stories
पीएम मोदी ने मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय को खास अंदाज में दी बधाई
%d bloggers like this: