Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

चीन ने फिर पाकिस्तानी आतंकी मक्की को ‘वैश्विक आतंकी’ बनाने में डाला अडंगा, भारत व अमेरिका के प्रस्ताव को रोका

17 Jun, 2022
Sachin
Share on :

बता दें कि अमेरिका पहले ही मक्की को आतंकवादी घोषित कर चुका है. खुफिया एजेंसी की खबर माने तो मक्की लश्कर-ए-तैयबा के सरगना एवं 26/11 मुंबई हमलों के मुख्य साजिशकर्ता हाफिज सईद का रिश्तेदार है.

नई दिल्ली: चीन ने पाकिस्तानी आतंकवादी अब्दुल रहमान मक्की को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) की प्रतिबंधित सूची में शामिल करने के अमेरिका एवं भारत के प्रस्ताव को आखिरी क्षण में वीटो कर दिया. माना जा रहा है कि अमेरिका और भारत ने सुरक्षा परिषद की अल कायदा प्रतिबंध समिति के तहत मक्की को एक वैश्विक आतंकवादी के रूप में घोषित किए जाने के लिए संयुक्त परिषद में प्रस्ताव पेश किया था.

चीन ने पाकिस्तानी आतंकवादी मक्की को UNSC में प्रतिबंधित सूची में शामिल करने के फैसले पर आखिरी क्षण में वीटो कर दिया

और यह भी पढ़ें- ‘अग्निपथ स्कीम’ पर देशभर में विरोध-प्रदर्शनों के बीच, जानें रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने क्या कहा…

बता दें कि अमेरिका पहले ही मक्की को आतंकवादी घोषित कर चुका है. खुफिया एजेंसी की खबर माने तो मक्की लश्कर-ए-तैयबा के सरगना एवं 26/11 मुंबई हमलों के मुख्य साजिशकर्ता हाफिज सईद का रिश्तेदार है. ऐसा बताया जा रहा है कि भारत और अमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की 1267 आईएसआईएल (दाएश) और अल कायदा प्रतिबंध समिति के तहत मक्की को वैश्विक आतंकवादी घोषित किए जाने के लिए एक संयुक्त प्रस्ताव पेश किया था, लेकिन चीन ने इस प्रस्ताव को अंतिम क्षण में बाधित कर दिया.

पाकिस्तान के मित्र देश चीन ने भारत और उसके सहयोगियों द्वारा पाकिस्तानी आतंकवादियों को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर आतंकी घोषित करवाने के लिए प्रयास कर रहे थे लेकिन चीन ने इसे बाधित कर दिया है और पहली बार नहीं हुआ है इससे पहले चीन कई बार संयुक्त राष्ट्र से से वीटो कर चुका है. भारत ने मई 2019 में संयुक्त राष्ट्र में एक बड़ी राजनयिक जीत हासिल की थी, जब वैश्विक निकाय ने पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर को ‘वैश्विक आतंकवादी’ घोषित कर दिया था. माना जाता है कि ऐसा करने में भारत को करीब एक दशक का समय लग गया था. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के 15 सदस्यीय निकाय में चीन एक मात्र ऐसा देश था, जिसने अजहर को कालीसूची में डालने के प्रयासों को बाधित करने की कोशिश की थी.    

चीन ने फिर पाकिस्तानी आतंकी मक्की को ‘वैश्विक आतंकी’ बनाने में डाला अडंगा, ऐसा उसने पहले भी कई बार किया है

कौन है अब्दुल रहमान मक्की?

मक्की लश्कर-ए-तैयबा के मुख्य नेताओं में से एक है. अमेरिका ने मक्की को आतंकी घोषित कर रखा है और उस पर 2 मिलियन डॉलर का इनाम भी रखा हुआ है. बताया जाता है कि मक्की पाकिस्तान में भारत विरोधी भाषण देने के लिए काफी मशहूर है. मक्की कई आतंकी संगठनों से जुड़ा रहा है और युवाओं को आतंक के रास्ते पर लाने के लिए ट्रेनिंग भी देता है. माना जाता है कि मक्की का तालिबान नेता मुल्ला उमर और अल कायदा के अयमान अल-जवाहिरी से बेहद करीबी संबंध रहे है.

चीन हर बार करता है वीटो पावर का इस्तेमाल

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पांच राष्ट्र- अमेरिका, ब्रिटेन, चीन, फ्रांस और रूस स्थायी सदस्य हैं. इनके पास ‘वीटो’ का अधिकार है. यानी यदि उनमें से किसी एक ने भी परिषद के किसी प्रस्ताव के विपक्ष में वोट डाला तो वह प्रस्ताव पास नहीं होगा.

News
More stories
ओवैसी ने पीएम मोदी पर कसा तंज, कहा- आपकी तपस्या में फिर कमी रह गई, TV पर वापस आइए और स्कीम वापस लें