Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

‘Asani’ तब्दील हुआ गंभीर चक्रवाती तूफान में, अलर्ट पर ओडिशा और पश्चिम बंगाल

09 May, 2022
Sachin
Share on :

मौसम विभाग ने असानी की गति की तीव्रता के अपने पूर्वानुमान में कहा है कि “आसानी” बुधवार को भयानक चक्रवाती तूफान में बदलने और बृहस्पतिवार तक गहरे दबाव में बदलने की संभावना है.

नई दिल्ली: मौसम विभाग के मुताबिक मंगलवार को चक्रवात तूफान ‘असानी’ के उत्तर आंध्र-ओडिशा तटों से पश्चिम-मध्य और उससे सटे उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी में पहुंचने पर उत्तर-पूर्व की ओर मुड़ने और ओडिशा तट से उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी की ओर बढ़ने की संभावना  जताई जा रही है.

मौसम विभाग ने असानी की गति की तीव्रता के अपने पूर्वानुमान में कहा है कि “आसानी” बुधवार को भयानक चक्रवाती तूफान में बदलने और बृहस्पतिवार तक गहरे दबाव में बदलने की संभावना है. वहीं आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि चक्रवात पूर्वी तट के समानांतर चलेगा और मंगलवार शाम से बारिश होने का कारण बनेगा. अगले 5 दिनों के अन्दर पूर्वोत्तर भारत में गरज के साथ हल्की वर्षा की संभावना है. 10 से 12 मई के दौरान अरुणाचल प्रदेश और 9 से 12 मई के दौरान असम-मेघालय और मिजोरम और त्रिपुरा में भारी बारिश की संभावना है.

आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र

और यह भी पढ़ें- दक्षिण दिल्ली में अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई आज से शुरू, 6 मई को ओखला और 9 मई को शाहीन बाग़ में चलेगा बुलडोजर

ओडिशा में बचाव कार्य अभियान

ओडिशा के विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) पीके जेना ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने बचाव अभियान के लिए पर्याप्त व्यवस्था शुरू कर दी है. उन्होंने आगे कहा कि, हमें राज्य में कोई बड़ा खतरा दिखाई नहीं दे रहा है, क्योंकि यह आसार लगाये जा रहे है कि पुरी के पास तट से करीब 100 किलोमीटर दूर से गुजर जाएगा. हालांकि, राष्ट्रीय आपदा प्रक्रिया बल (एनडीआरएफ), ओडिशा आपदा त्वरित कार्रवाई बल (ओडीआरएएफ) और दमकल सेवाओं के बचाव दल किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं. बालासोर में एनडीआरएफ के एक दल को तैनात किया गया है और वहीं दूसरी ओर ओडीआरएएफ के एक दल को गंजम जिले में भेजा गया है.

ओडिशा में बचाव कार्य अभियान

मछुआरों को तटों पर न जाने की हिदायत

आपको मालूम हो कि कोलकाता के तटीय जिलों में एक से दो स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है. कोलकाता के महापौर फिरहाद हाकिम ने कहा, मौसम विभाग की सतर्कता के बाद आपदा प्रबंधन दलों को सतर्क कर दिया गया है. उन्होंने आगे कहा कि मई 2020 में “अम्फान चक्रवात” के विनाशकारी प्रभावों से काफी ज्यादा सबक लिया है, नगर-निगम प्रशासन गिरे हुए पेड़ों और अन्य मलबे के कारण होने वाली रुकावटों को दूर करने के लिए क्रेन, विद्युत आरी और बुल्डोजर को सतर्क रखने के लिए कह दिया है.

News
More stories
मुख्यमंत्री धामी ने शान्ति निकेतन ट्रस्ट में गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर की 161 वीं जयंती के अवसर पर दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम शुभारंभ किया