Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

मोहम्मद जुबैर की सुप्रीम कोर्ट में अर्जी- यूपी में दर्ज 6 एफआईआर को रद्द करने की मांग, SIT को भी दी चुनौती

14 Jul, 2022
Sachin
Share on :

जुबैर के खिलाफ सीतापुर, लखीमपुर खीरी, गाजियाबाद, मुजफ्फरनगर और हाथरस जिले में कथित तौर पर धार्मिक भावनाएं आहत करने के आरोप में मुकदमे दर्ज किए गए हैं. जुबैर ने कथित रूप से कुछ समाचार चैनलों के पत्रकारों पर कटाक्ष किया था.

उत्तर प्रदेश: फैक्ट चेकर मोहम्मद जुबैर ने अपने खिलाफ हुई उत्तर प्रदेश में दर्ज 6 एफआईआर को रद्द करने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है. ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक जुबैर ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर यूपी में गठित की गई एसआईटी की संवैधानिक वैधता को भी चुनौती भी दी है.

मोहम्मद जुबैर की सुप्रीम कोर्ट में अर्जी- यूपी में दर्ज 6 एफआईआर को रद्द करने की कि मांग

और यह भी पढ़ें- संसद में भ्रष्ट, जुमलाजीवी और बहरी सरकार जैसे शब्दों पर लगा बैन, विपक्ष ने जताई कई शब्दों पर आपत्ति

गौरतलब है कि यूपी सरकार ने मंगलवार यानी 12 जुलाई को मोहम्मद जुबैर पर लगे आरोपों के बीच यूपी सरकार ने जांच के लिए विशेष अनुसंधान दल (एसआईटी) का गठन किया था. यूपी के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि एसआईटी से कहा गया है कि वह जुबैर के खिलाफ मामलों में जांच तेजी से कर अदालत में चार्जशीट दाखिल करें. उन्होंने आगे बताया कि पुलिस महानिरीक्षक (कारागार) डॉक्टर प्रीतिंदर सिंह एसआईटी का नेतृत्व करेंगे जबकि महानिरीक्षक अमित वर्मा इसके सदस्य होंगे. जांच में मदद के लिए एसआईटी में तीन पुलिस उपाधीक्षक को भी शामिल किया गया है.

जुबैर के खिलाफ इन जिलों में दर्ज है FIR

जुबैर के खिलाफ सीतापुर, लखीमपुर खीरी, गाजियाबाद, मुजफ्फरनगर और हाथरस जिले में कथित तौर पर धार्मिक भावनाएं आहत करने के आरोप में मुकदमे दर्ज किए गए हैं. जुबैर ने कथित रूप से कुछ समाचार चैनलों के पत्रकारों पर कटाक्ष किया था. इसके अलावा उन पर हिंदू देवी देवताओं का कथित अपमान करने के साथ-साथ भड़काऊ पोस्ट सोशल मीडिया पर डालने का आरोप भी है.

हिंदूवादी नेताओं ने लगाये आरोप

सीतापुर में जुबैर के खिलाफ हिंदू शेर सेना के जिलाध्यक्ष भगवान शरण की शिकायत पर बीती तारीख एक जून को मुकदमा दर्ज कराया था. शरण ने जुबैर की ओर से किए गए एक ट्वीट की शिकायत की थी, जिसमें तीन हिंदूवादी नेताओं यति नरसिंहानंद सरस्वती, बजरंग मुनि और आनंद स्वरूप पर कथित नफरत फैलाने का आरोप लगाया गया था. हालांकि, इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने जुबैर को अंतरिम जमानत दे दी थी.

हिंदूवादी संगठन हिंदू शेर सेना के नेताओं ने नफरत फैलाने का लगाया आरोप

12 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट ने यूपी के सीतापुर में मोहम्‍मद जुबैर के खिलाफ हुए दर्ज मामले पर अंतरिम जमानत को बढ़ा दिया था. जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और एएस बोपन्ना ने मामले की सुनवाई करते हुए अंतिम निपटान के लिए 7 सितंबर को सूचीबद्ध किया है. पीठ ने कहा कि राज्य सरकार ने जवाबी हलफनामा दायर करने के लिए समय मांगा जिस पर उसे चार सप्ताह के भीतर अपना जवाब दाखिल करना है. वहीं, पिछली सुनवाई के दौरान शीर्ष अदालत ने कहा था कि उसने सीतापुर में दर्ज मामले की जांच पर रोक नहीं लगाई है. जरूरत पड़ने पर पुलिस लैपटाप और अन्य इलेक्ट्रानिक डीवाइस जब्त कर सकती है.

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और एएस बोपन्ना

Edited By: Deshhit News

News
More stories
सीएम योगी आये एक्शन मोड में, सरकार की छवि ख़राब करने वाले कई वरिष्ठ अफसरों पर गिरेगी गाज