Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

शिवसैनिकों के तांडव के बीच शिंदे ने लिखा उद्धव को खत, 38 विधायकों के परिवार की सुरक्षा वापस ली गई यह बहुत दुर्भावनापूर्ण

25 Jun, 2022
Sachin
Share on :

मराठी में लिखे गए पांच पन्ने की चिट्ठी में विधायकों ने साफ तौर पर लिखा है कि हम वर्तमान विधायक हैं, इसलिए हमारे आवास पर और हमारे परिवार के सदस्यों को प्रोटोकॉल के अनुसार प्रदान की गई सुरक्षा को प्रतिशोध के रूप में अवैध रूप से वापस ले लिया गया है.

नई दिल्ली: शिवसेना के बागी विधायक एकनाथ शिंदे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, राज्य के गृह मंत्री और डीजीपी को पत्र लिखा है जिमें उन्होंने आरोप लगाया है कि 38 विधायकों जो अब ठाकरे के साथ नहीं उनके परिवारों के सदस्यों की सुरक्षा वापस ली गई है या बहुत ही दुर्भावना पूर्ण है. उन्होंने पत्र में लिखा है कि अगर उनके परिवारों को कुछ होता है, तो उसके लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, शरद पवार, संजय राऊत और आदित्य ठाकरे जिम्मेदार होंगे.

शिंदे ने खत में पंजाब का किया जिक्र

साथ ही शिंदे ने 38 बागी विधायकों के हस्ताक्षर वाली चिट्ठी में सुरक्षा हटाए जाने के बाद पंजाब में विधायकों और नेताओं की सुरक्षा हटाए जाने को लेकर भी अपने पत्र में लिखा है कि कैसे सरकार ने सुरक्षा को हटाया और मूसे वाला का मर्डर हो गया. पत्र में ये भी आरोप लगाया गया है कि एमवीए सरकार के विभिन्न नेता अपने-अपने दलों के कार्यकर्ताओं को हिंसा करने के लिए उकसा रहे हैं.

एकनाथ शिंदे ने खत में पंजाब की घटना का जिक्र किया

और यह भी पढ़ें- गुजरात दंगों पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर बोले ग्रह मंत्री अमित शाह- ‘मोदीजी को दर्द झेलते देखा है उन्होंने 18 साल से विषपान किया है’

मराठी में लिखे गए पांच पन्ने की चिट्ठी में विधायकों ने साफ तौर पर लिखा है कि हम वर्तमान विधायक हैं, इसलिए हमारे आवास पर और हमारे परिवार के सदस्यों को प्रोटोकॉल के अनुसार प्रदान की गई सुरक्षा को प्रतिशोध के रूप में अवैध रूप से वापस ले लिया गया है. यह उल्लेख करने की आवश्यकता नहीं है कि यह भयावह कदम हमारे संकल्प को तोड़ने का एक और प्रयास है और एनसीपी और कांग्रेस के गुंडों वाली एमवीए सरकार की मांगों को पूरा करने के लिए हमारे हाथ जबरन मरोड़ने की कोशिश की जा रही है.

गृह मंत्री ने आरोपों से किया इनकार

इस बीच महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल ने एकनाथ शिंदे के आरोपों को पूरी तरह से बेबुनियाद बताया है और इसका खंडन किया है. उन्होंने कहा, ‘न तो मुख्यमंत्री और न ही गृह विभाग ने राज्य में किसी विधायक की सुरक्षा हटाने के आदेश दिए हैं.  इस संबंध में ट्विटर पर लगाए गए आरोप पूरी तरह से गलत और भ्रामक हैं.

महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल

वहीं अब संजय राउत ने कहा कि महाराष्ट्र विधानसभा के फ्लोर पर आइए, देखते हैं कि किसमें कितना दम है. मैं हवा में कोई बात नहीं करता. जो उद्धव जी कहते हैं, मैं वही कहता हूं. जो बगावत कर रहे हैं, वे अपनी विधायकी बचाएं. मैं देवेंद्र फडणवीस को कहना चाहूँगा कि वह इस झमेले से बाहर रहें, नहीं तो वह बुरी तरह फंस जाएंगे. यह पार्टी हमारे खून से बनी है. यूंही कोई आने- जाने वाला हाईजैक नहीं कर सकता. कोई इस पार्टी को पैसे के दम पर खत्म नहीं कर सकता. हमें यकीन है कि एक बार (बागी) विधायक मुंबई वापस आ जाएंगे, वे फिर से हमारे पक्ष में लौट आएंगे. कल रात हमारी बैठक के दौरान शरद पवार की मौजूदगी में, हमें 10 (बागी) विधायकों का फोन आया. सदन के पटल पर आओ, और हम देखेंगे की कौन कितना मजबूत है.

Edited By: Deshhit News

News
More stories
अमेरिका में गर्भपात का संवैधानिक अधिकार खत्म होते ही छिड़ी बहस, SC ने पलटा अपना 50 साल पुराना फैसला