Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

डीएम विनय शंकर पाण्डेय की अध्यक्षता में नगरपालिका परिषद क्षेत्र में पर्याप्त जलापूर्ति किये जाने के सम्बन्ध में बैठक आयोजित हुई।

22 Aug, 2022
Head office
Share on :

हरिद्वार: जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय की अध्यक्षता में सोमवार को कलक्ट्रेट सभागार में नगरपालिका परिषद शिवालिक नगर क्षेत्रान्तर्गत सुभाषनगर एवं नवोदयनगर क्षेत्र में पर्याप्त जलापूर्ति किये जाने आदि के सम्बन्ध में एक बैठक आयोजित हुई।

बैठक में शिवालिक नगरपालिका के अध्यक्ष राजीव शर्मा ने सुभाषनगर एवं नवोदयनगर की पेयजल की समस्या के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि पानी की आपूर्ति का संचालन समिति द्वारा किया जाता है तथा इन क्षेत्रों में पानी की आपूर्ति के लिये जो व्यवस्था चल रही है, वह काफी पुरानी होने की वजह से उसमें सुधार लाने की आवश्यकता है। सुभाषनगर तथा नवोदयनगर में पानी की पाइप लाइनें काफी पुरानी हैं, जिनमें जगह-जगह पानी का रिसाव होते रहता है, जिससे क्षेत्र के सैकड़ों लोग प्रभावित होते हैं।


जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय ने बैठक में उपस्थित समिति के पदाधिकारियों से क्षेत्र में कितने कनेक्शन हैं, उनमें से अवैध कनेक्शन कितने चल रहे हैं, प्रति घर के हिसाब से कितना पानी का बिल प्रतिमाह लिया जाता है, समिति की प्रतिमाह की कितनी आय होती है, कितनी वसूली बाकी है आदि के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी ली। उन्होंने सभी पहलुओं को दृष्टिगत रखते हुये अधिकारियों को निर्देश दिये कि समिति का ऑडिट कराया जाये तथा इसकी रिपोर्ट 15 दिन के भीतर उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। उन्होंने ये भी निर्देश दिये कि ऑडिट के दौरान समिति द्वारा कोई भी पैसा खर्च नहीं किया जायेगा। उन्होंने कहा कि ऑडिट की रिपोर्ट में जो डिफाल्टर पाये जाते हैं, उनका पानी का कनेक्शन काटने आदि की कार्रवाई की जाये।


विनय शंकर पाण्डेय ने जल संस्थान के अधिकारियों को निर्देश दिये कि समिति के माध्यम से पानी आपूर्ति की जो व्यवस्था इन क्षेत्रों में चल रही है, उसका तीन-चार दिन के भीतर पूरा सर्वे करा लंे तथा उसको हैण्डओवर करने की प्रक्रिया के सम्बन्ध में अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करें।
जिलाधिकारी ने कहा कि हमारा उद्देश्य हर हाल में लोगों को पानी उपलब्ध कराना है इसलिये पानी की आपूर्ति की वर्तमान में जो व्यवस्था चल रही है, उसमें क्या-क्या सुधार किया जा सकता है, कहां मिनी ट्यूबवेल लगाये जा सकते है, कहां पर पाइप लाइन बिछानी अति आवश्यक है आदि के सम्बन्ध में एक योजना तैयार कर लें।

बैठक में नवोदय नगर मुख्य मार्ग का अतिक्रमण हटाने, सामुदायिक केन्द्र नवोदयनगर को पालिका को हस्तांतरण किये जाने, पोस्ट आफिस, बैंक, राशन की दुकान खोलने आदि के सम्बन्ध में भी विस्तृत विचार-विमर्श हुआ तथा इस सन्दर्भ में सम्बन्धित को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये गये।
इस अवसर पर एसडीएम पूरन सिंह राणा, परियोजना निदेशक विक्रम सिंह, अधिशासी अभियन्ता जल संस्थान मदन सेन, नगरपालिका परिषद के अधिकारी एवं पदाधिकारीगण, समिति के पदाधिकारीगण सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।

News
More stories
मुख्यमंत्री धामी मध्य क्षेत्रीय परिषद की 23 वीं बैठक में हुए शामिल