Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

20 फीट ऊंचाई, 9500 KG वजन… संसद भवन में बने राष्ट्रीय प्रतीक का पीएम मोदी ने किया अनावरण

11 Jul, 2022
Sachin
Share on :

नए संसद भवन के शीर्ष पर बनाया गया प्रतीक को सहारा देने के लिए इसके आसपास करीब 6,500 किलोग्राम की, स्टील की एक संरचना बनाई गई है. उन्होंने बताया कि नए संसद भवन की छत पर राष्ट्रीय प्रतीक लगाने का काम आठ अलग-अलग चरणों से पूरा किया गया है.

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज नए संसद भवन की छत पर स्थापित किए गए राष्ट्रीय प्रतीक का अनावरण किया और साथ ही प्रधानमंत्री ने निर्माण कार्य में लगे श्रमिकों से बातचीत की. कांसे के बने 9,500 किग्रा वजनी और 6.5 मीटर ऊंचे प्रतीक का अनावरण करने के बाद वह श्रमिकों से मिले. श्रमिक हाथ जोड़कर खड़े थे, पीएम से मुलाकात के लिए बीच में एक रस्सी की लक्ष्मण रेखा खींची गई थी. जहाँ दूसरी ओर श्रमिकों को खड़ा होना था, रस्सी के इस पार पीएम मोदी. हालांकि जैसे ही पीएम पहुंचे तो उन्होंने सबसे पहले उस दीवार को हटा दिया और श्रमिकों के करीब जाकर बातचीत की. इसके जरिए पीएम ने श्रमिकों को बड़ा संदेश भी दिया. बाद में उन्होंने लगभग 2 मिनट का वीडियो शेयर कर संसद बनाने वाले लोगों को श्रमजीवी कहकर संबोधित किया.   

प्रतीक को सहारा देने के लिए स्टील की संरचना बनाई

नए संसद भवन के शीर्ष पर बनाया गया प्रतीक को सहारा देने के लिए इसके आसपास करीब 6,500 किलोग्राम की, स्टील की एक संरचना बनाई गई है. उन्होंने बताया कि नए संसद भवन की छत पर राष्ट्रीय प्रतीक लगाने का काम आठ अलग-अलग चरणों से पूरा किया गया है. इसमें मिट्टी से मॉडल बनाने से लेकर कंप्यूटर ग्राफिक तैयार करना और कांस्य निर्मित आकृति को पॉलिश करना शामिल है.

प्रतीक को सहारा देने के लिए चारों ओर स्टील की संरचना बनाई गई है

और यह भी पढ़ें- Tamilnadu: पूर्व मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेलवम को झटका, पलानीस्वामी बनाए गए अंतरिम महासचिव

बताया जा रहा है कि जनवरी में सेंट्रल पब्लिक वर्क डिपार्टमेंट (CPWD) ने नए संसद भवन के निर्माण की लागत में होने वाली वृद्धि के लिए लोकसभा सचिवालय से मंजूरी मांगी थी. सूत्रों की खबर के मुताबिक, इस वृद्धि के बाद संसद भवन का बजट 1200 करोड़ रुपए तक पहुंचने की उम्मीद जताई गई है.

संसद भवन की छत के ऊपर राष्ट्रीय प्रतीक का अनावरण करने पहुंचे पीएम मोदी के साथ लोकसभा के स्पीकर ओम बिरला भी मौजूद रहे

इसके अलावा इलेक्ट्रॉनिक्स पर भी खर्च बढ़ने की संभावना जताई गई है. दरअसल, संसद भवन में मॉर्डन ऑडियो-वीडियो विजुअल सिस्टम लगाया जा रहा है. इसके अलावा सभी सांसदों की टेबल पर टैबलेट की व्यवस्था भी की जाएगी. इसी तरह से मंत्रियों के चेंबर और मीटिंग रूम में उच्च तकनीक वाले डिवाइस का इस्तेमाल किया जाएगा. 

इमारत बना रहे या इतिहास?

वीडियो में दिखाई दे रहा है कि पीएम श्रमिकों से पूछते हैं, अच्छा आप लोगों को क्या लगता है इमारत बना रहे हैं या इतिहास बना रहे हैं? एकसुर में वे बोलते हैं- इतिहास. पीएम कहते हैं- सबको मालूम है. सभी हां में सिर हिलाते हैं. वहीं, पीएम अपने अंदाज में बात करते हुए पूछते हैं कि काम करने में क्या फर्क है, मकान बनाते हैं और संसद भवन बना रहे है?

टाटा को दिया गया प्रोजेक्ट

2020 में नया संसद भवन बनाने का प्रोजेक्ट टाटा प्रोजेक्ट्स को 971 रुपए करोड़ में मिला था. सरकार ने भवन के लिए अक्टूबर 2022 की समय सीमा निर्धारित की थी. लेकिन इस साल नए संसद भवन में शीतकालीन सत्र आयोजित करने का लक्ष्य रखा गया था. लेकिन इस कार्य को पूरा होने में अभी थोड़ा और समय लगने की आशंका जताई जा रही है.

Edited By: Deshhit News

News
More stories
Mission Gaganyaan: पहले ट्रायल को तैयार गगनयान, अगले साल भारतीय कर सकेंगे अंतरिक्ष की यात्रा