Breaking news

सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल गैंगस्टर गोल्डी बराड़ ने पंजाब के कानून मंत्री और DGP को दी चेतावनी

Madrasa Survey: उत्तराखंड में भी होगा मदरसों का सर्वे, CM पुष्कर सिंह धामी ने बताया जरुरी ! Delhi News: जल्द होगा MCD Election की तारीख का ऐलान, वार्डों के प्रस्तावित नक्शे पर कमेटी ने मांगे सुझाव पश्चिम बंगाल में नबान्न अभियान को लेकर BJP और पुलिस आमने सामने, हिरासत में लिए गए शुभेंदु अधिकारी-लॉकेट चटर्जी Delhi News: AAP के दो विधायक दंगा भड़काने में दोषी करार, 7 साल पुराना है मामला; 21 सितम्बर को कोर्ट सुनाएगा सजा Mumbai News: शख्स की कार में लगी आग तो मदद के लिए आगे आए महाराष्ट्र CM एकनाथ शिंदे, रुकवाया काफिला

जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय बस दुर्घटना में प्रभावित लोगों को सांत्वना देते हुये ढाढस बंधाया।

06 Oct, 2022
Head office
Share on :

हरिद्वार: जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय बृहस्पतिवार को लाल ढांग गांव पहुंचे, जहां उन्होंने पौड़ी जिले में हुई बस दुर्घटना प्रभावित लोगों को सांत्वना देते हुये ढाढस बंधाया। उन्होंने दुल्हा संदीप, उनकी माताजी तथा परिजनों को ढाढस बंधाते हुये कहा कि एक साथ इतने लोगों के इस संसार से चले जाने की हृदय विदारक घटना ने सभी को झकझोर दिया है, लेकिन विधि के आगे आज तक किसी की नहीं चली है।

उन्होंने संदीप को सांत्वना देते हुये कहा कि पूरे परिवार को अब तुम्हें ही संभालना है, इसलिये हिम्मत से काम लो। उन्होंने कहा कि आप लोग परेशान न होवें, पूरा प्रशासन सहित सभी लोग आपके साथ हैं तथा जो भी हर सम्भव मदद है, वह की जायेगी।


जिलाधिकारी को संदीप की माताजी ने रोते एवं सिसकते हुये किसी तरह अपने को संभालते हुये कहा कि संदीप के पास परिवार के भरण-पोषण के लिये कोई साधन नहीं है, इसके ऊपर आठ लोगों की जिम्मेदारी है। इस पर जिलाधिकारी ने कहा कि माताजी संदीप की शैक्षिक योग्यता के अनुसार रोजगार उपलब्ध कराने के लिये कहीं न कहीं व्यवस्था अवश्य करेंगे। संदीप की माताजी ने जिलाधिकारी को अपने तीन साल के पोते के बारे में भी बताया कि इसके कमर के पास की हड्डी में कुछ दिक्कत है, जिसका डॉक्टर ऑपरेशन के लिये कह रहे हैं, इस पर जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये कि बच्चे का पूरा इलाज निःशुल्क कराया जाये।


जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि इस बस दुर्घटना में प्रभावित लोगों के परिवारों को यथाशीघ्र छह माह का निःशुल्क राशन यथा-गेहूं, चावल, दाल आदि उपलब्ध कराया जाये। उन्होंने अधिकारियों को ये भी निर्देश दिये कि सरकार की विभिन्न योजनाओं-पारिवारिक लाभ योजना, विधवा पेंशन, किसान पेंशन, सीएम राहत कोष आदि के अन्तर्गत आश्रित परिवारों को अधिक से अधिक लाभ पहुंचाने के लिये गांव में ही एक सार्वजनिक स्थान पर कैम्प का आयोजन किया जाये, जिसमें सभी औपचारिकतायें उसी कैम्प में पूरी कर ली जायें ताकि आश्रितों को किसी भी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े।

इस दुःख की घड़ी में एसडीएम पूरण सिंह राणा, तहसीलदार दयाराम, ग्राम प्रधान सहित आप-पास के लोग बड़ी संख्या में प्रभावितों को सांत्वना देने पहुंचे थे।

News
More stories
रक्षा मंत्री ने उत्तराखंड में सशस्त्र बलों एवं आईटीबीपी के जवानों के साथ विजयदशमी मनाई